2007 से पहले जन्मे बच्चों का 3 जनवरी से टीकाकरण:18 साल तक के बच्चों को लगेगी को-वैक्सीन, कोविन पोर्टल पर 1 जनवरी से रजिस्ट्रेशन

बिलासपुर5 महीने पहले

कोरोना के खतरे से बच्चों को बचाने के लिए टीकाकरण अभियान 3 जनवरी से शुरू होगा। जिन बच्चों का जन्म 2007 से पहले हुआ है उन्हें ही टीका लगाया जाएगा। इसके लिए एक जनवरी से ऑनलाइन पंजीयन भी कराया जाएगा। इसके लिए गाइडलाइन जारी कर दी गई है। इस चरण में 15 से 18 साल के बच्चों को वैक्सीन की खुराक लगाई जाएगी। जिले में 1 लाख 16 हजार 143 बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए तैयारी पूरी हो गई है।

कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बच्चों को बचाने के लिए उन्हें कोरोना वैक्सीन लगाई जाएगी। टीकाकरण शुरू होने से पहले स्वास्थ्य विभाग इस कार्य में लगे स्टाफ को विशेष प्रशिक्षण देगा। बीते मंगलवार को राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. वीआर भगत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी टीकाकरण अधिकारी और शिक्षा अधिकारियों की बैठक ली थी। इस दौरान बताया गया कि सभी कोरोना टीकाकरण केंद्रों के माध्यम से ही बच्चों का भी टीकाकरण होगा।

केंद्र सरकार ने तय किया है कि बच्चों को सिर्फ को-वैक्सीन लगाई जाएगी। गाइडलाइन जारी होते ही अब जिला स्तर के कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने की तैयारी की जा रही है। गाइडलाइन के मुताबिक टीकाकरण में लगे लोगों का सैनिटाइजेशन जरूरी है। इस प्रशिक्षण के बाद ही टीकाकरण शुरू होगा। स्कूल शिक्षा विभाग से जिले भर के स्कूलों के बच्चों की जानकारी मंगाई गई है। इन स्कूलों में 15 से 18 साल के बच्चों को चिन्हित किया गया है।

बच्चों को को-वैक्सीन ही क्यों लगेगी?
शासन से बच्चों को सिर्फ को-वैक्सीन के डोज ही लगाने को क्यों कहा है इस सवाल का जवाब देते हुए जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. मनोज सेमुअल ने बताया कि गर्भवती महिलाओं और को-कार्बिट यानी बीमार लोगो को को-वैक्सीन ही लगती है। रिसर्च में ये पता चला है कि को-वैक्सीन वैक्सीन सुटेबल है। ऐसे में को-वैक्सीन के ही डोज बच्चों को लगाया जाएगा। जिले के वैक्सीन डिपो में को-वैक्सीन के 35 हजार डोज उपलब्ध हैं। टीकाकरण अधिकारी का कहना है, जल्दी ही और वैक्सीन आ जाएगी, जिससे टीकाकरण निरंतर चलेगा।

बीमार बच्चों की बनेगी अलग सूची
स्वास्थ्य विभाग ने शिक्षा विभाग के अधिकारी कर्मचारियों को बच्चों के वैक्सीनेशन की जानकारी दी है। उन्हें कहा गया है कि यदि कोई बच्चा बीमार या किसी चीज से एलर्जी है तो उसकी जानकारी लेकर बच्चों के आईडी प्रूफ, मोबाइल नंबर और पता भी लेने को कहा गया है। बच्चों को CIMS और जिला अस्पताल में वैक्सीन लगेगी। इसके साथ ही स्कूलों में भी सेंटर बनाया जाएगा।

10 जनवरी से बुजुर्गों को लगेगा बूस्टर डोज
स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंट लाइन वर्कर और 60 से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना टीके की एक बूस्टर डोज भी लगाई जाएगी। टीकाकरण का यह दौर 10 जनवरी से शुरू होगा। इसके तहत दो टीकों की डोज ले चुके लोगों को उसी टीके की एक और डोज दी जाएगी। टीकाकरण अधिकारी डॉ. सेमुअल ने बताया कि बूस्टर डोज उन्हीं लोगों को दिया जाएगा, जिन्हें दूसरा डोज लगे 90 दिन हो गया है।

बच्चों के लिए एक जनवरी से पंजीयन होगा
डॉ. सेमुअल ने बताया कि बच्चों के लिए टीकाकरण का ऑनलाइन पंजीयन एक जनवरी से शुरू होगा। इसके लिए कोविन पोर्टल पर नई लिंक बनाई जा रही है। पहचान के लिए 10वीं कक्षा के स्कूल पहचान पत्र को भी मान्यता दी गई है। आधार कार्ड अब भी प्रमुख पहचान पत्र के तौर पर शामिल है। बताया जा रहा है, इसमें पहले की तरह ऑनलाइन पंजीयन की सुविधा भी मिल सकती है।

खबरें और भी हैं...