उत्खनन घोटाला:लीज एरिया में तालाब नहीं मिलने से आरआई बगैर नापे लौटे थे

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
धमनी में जारी है मुरुम और मिट्‌टी का उत्खनन। - Dainik Bhaskar
धमनी में जारी है मुरुम और मिट्‌टी का उत्खनन।

कागजों में कैसा खेल खेला जाता है और मौके पर क्या होता है, इसकी बानगी देखना है तो खनिज विभाग द्वारा धमनी में दी गई एक अनुमति को देखा जा सकता है। बिल्हा ब्लॉक के ग्राम धमनी में खसरा नंबर 840/3 रकबा 3.925 हेक्टेयर शासकीय तालाब के गहरीकरण के दौरान निकलने वाले मिट्‌टी-मुरुम मात्रा 40 हजार घन मीटर के उत्खनन को अनुमति दी गई लेकिन मौके पर तालाब ही नहीं है। मेसर्स झांझरिया निर्माण लिमिटेड की मांग और ग्राम पंचायत के प्रस्ताव पर बिल्हा के आरआई ने 23 अक्टूबर को धमनी गांव जाकर सीमांकन किया लेकिन उसे मौके पर तालाब नहीं मिला।

वहां रहता तब तो तालाब मिलता, वहां तो मैदान और गड्ढे थे। वह बगैर नाप किए ही लौट गया। नायब तहसीलदार के निर्देश पर राजस्व निरीक्षक सीएल कश्यप ने मेसर्स झांझरिया के सुपरवाइजर गौरीशंकर साहू, सुधीर सिंह ठाकुर, धमनी सरपंच मनीष शर्मा और कड़ार सरपंच प्रतिनिधि बृजेश दुबे की मौजूदगी में सीमांकन किया। 12 नवंबर को सौंपी गई रिपोर्ट में बताया कि खसरा नंबर 840/1 रकबा 3.925 हेक्टेयर शासकीय तालाब के गहरीकरण के लिए अनुमति दी गई है। मौके पर उस खसरा नंबर पर शासकीय तालाब नहीं होना पाया गया है। शासकीय तालाब नहीं होने के कारण लीज क्षेत्र का नाप नहीं किया गया। कड़ार और धमनी की सरहद का नाप कर बताया गया है। आरईआर ने यह भी बताया कि वहां पर पूर्व में मुरुम उत्खनन होने के कारण गड्‌ढे हैं।

इधर खनिज विभाग ने कहा- नियमानुसार हो रही खुदाई

खनिज शाखा के उप संचालक ने जनसंपर्क की प्रेस विज्ञप्ति में धमनी में नियमानुसार खुदाई होने की बात कही है। उन्होंने बताया कि प्रकाशित खबर के संबंध में खनिज अमला व राजस्व विभाग द्वारा ग्राम पंचायत धमनी, हल्का पटवारी, मेसर्स झांझरिया निर्माण लिमिटेड के सुपरवाइजर व ग्रामीणों के समक्ष संयुक्त जांच में पाया गया कि ग्राम पंचायत धमनी की शासकीय भूमि खसरा नंबर 840/1 का रकबा 3.925 हेक्टेयर क्षेत्र पर ही ठेकेदार द्वारा नियमानुसार पंचायत, राजस्व व खनिज विभाग की अनुमति लेकर भूमि का गहरीकरण व सफाई कार्य किया जा रहा है।

अब कह रहे- शासकीय भूमि पर तालाब गहरीकरण
खनिज विभाग के 29 सितंबर के अनुमति पत्र में लिखा है कि धमनी में शासकीय तालाब के गहरीकरण की अनुमति दी जाती है। उसी विभाग ने आज प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया कि धमनी में शासकीय भूमि पर तालाब गहरीकरण की अनुमति दी गई है। इससे समझा जा सकता है कि किस तरह कागजों में अधिकारी खेल करते हैं।

खबरें और भी हैं...