रैंडम सैंपलिंग में 8 नए ओमिक्रॉन संक्रमित:आइसोलेशन पीरियड पूरा कर चुके संपर्क में आए 120 लोगों के सैंपल लिए, फिर 7 दिन किया आइसोलेट

बिलासपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिलासपुर में रविवार को एक साथ कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रोन के आठ मरीज मिलने के बाद कम्यूनिटी स्प्रेड की आशंका जताई जा रही है। यही वजह है कि स्वास्थ्य विभाग ने संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने वाले 120 लोगों का RT-PCR के लिए सैंपल लिया है। इसे जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भुवनेश्वर भेजा जाएगा। इधर, रैंडम सैंपलिंग के 200 से अधिक मरीजों की रिपोर्ट अब तक नहीं आई है। ऐसे में नए सैंपल की जांच कराने को लेकर भी सवाल उठ रहा है।

रविवार शाम को रिपोर्ट आने के बाद ओमिक्रॉन मरीजों को प्रोटोकाॅल के तहत सात दिनों के लिए होम आइसोलेट कर दिया गया है। हालांकि, सभी मरीज पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं और होम आइसोलेशन पीरियड भी पूरा कर चुके हैं। इसके बाद भी आइसोलेट करने पर मरीज व उनके परिवार के सदस्य परेशान होने के साथ ही अव्यवस्था से नाराज हैं। मरीज और परिवार के सदस्यों का कहना है कि अब सैंपल लेने का कोई औचित्य नहीं है। क्योंकि होम आइसोलेशन पीरियड पूरा करने के बाद से वे लगातार शहर में घूम रहे हैं। ऐसे में संक्रमण तो पहले ही फैल गया होगा।

नोडल अधिकारी बोले निर्देश पर हो रहा है काम
ओमिक्रॉन कंट्रोल रूम के नोडल अधिकारी डॉक्टर समीर तिवारी का कहना है कि शासन की गाइडलाइन के अनुसार काम किया जा रहा है। यह सही है कि मरीजों के सैंपल रिपोर्ट आने में देरी हो रही है। ऐसे में होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को फिर से आइसोलेट करना मुश्किल हो रहा है और उनकी नाराजगी का भी सामना करना पड़ रहा है।

विदेश से आने वालों के 15 सैंपल पेंडिंग
ओमिक्रॉन को लेकर राहत की बात यह है कि अब तक विदेश से लौटे लोगों में एक ही पॉजिटिव मिला हैं। जबकि, ओमिक्रॉन का संक्रमण बिना ट्रेवल हिस्ट्री के मिल रहा है। विदेश से आने वाले लोगों को होम आइसोलेट किया गया और कोरोना पॉजिटिव मिलने पर उनका जीनोम सीक्वेंसिंग सैंपल भेजा गया। इनमें ज्यादातर लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। विदेश से आने वाले 15 लोगों के जीनोम सीक्वेंसिंग सैंपल की रिपोर्ट अब तक नहीं आई है।

रैंडम सैंपलिंग के 200 से अधिक रिपोर्ट है पेंडिंग
केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार ओमिक्रॉन के नियंत्रण के लिए हर दिन मिलने वाले कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से पांच फीसदी जीनोम सीक्वेंसिंग सैंपल लेकर भुवनेश्वर लैब भेजा जा रहा है। ताकि, ओमिक्रॉन संक्रमितों की पहचान की जा सके। रविवार को जो ओमिक्रॉन पॉजिटिव मिले हैं वे सभी रैंडम सैंपलिंग वाले हैं। इनकी कोई भी ट्रेवल हिस्ट्री नहीं है। इस तरह से बिना ट्रेवल हिस्ट्री और रैंडम सैंपलिंग के अभी 200 से अधिक रिपोर्ट पेंडिंग है। जिनकी रिपोर्ट आना अभी बाकी है।

खबरें और भी हैं...