स्कूल-मैदानों को मुक्त करो भास्कर अभियान:लिंगियाडीह स्कूल मैदान में रेत कारोबारी का कब्जा

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लिंगियाडीह स्कूल परिसर में खड़े रेत से भरे ट्रैक्टर और मैदान में डंप रेत। - Dainik Bhaskar
लिंगियाडीह स्कूल परिसर में खड़े रेत से भरे ट्रैक्टर और मैदान में डंप रेत।

शासन के निर्देश के बाद स्कूल खुल गए हैं। लेकिन शहर के अधिकांश स्कूल पढ़ाई के लिए तैयार नहीं है। अधिकांश स्कूलों में गंदगी फैली है। कहीं बिल्डिंग से पानी टपक रहा है, तो किसी में झाड़ियां उग गई हैं। अब ऐसे में छात्रों को पढ़ना मुश्किल हो रहा है। दूसरी तरफ शहर के स्कूल मैदानों में पर कब्जा होते जा रहा है।

नौनिहालों को खेलने तक को मैदान नहीं मिल रहा है। शहर के लिंगियाडीह स्कूल की स्थापना 2008 में हुई है। यहां 472 छात्र अध्ययनरत हैं। यहां 46 शिक्षकों के पद स्वीकृत हैं, पर 21 ही कार्यरत हैं। अब इस स्कूल के मैदान में रेत व्यवसायियों के द्वारा रेत डंप किया जा रहा है। लगातार यहां ट्रैक्टरों का आना-जाना लगा हुआ है। स्कूल आने-जाने वाले छात्रों को इन ट्रैक्टरों से हर दिन खतरा बना हुआ है। स्कूल की प्राचार्य और शिक्षकों के हस्तक्षेप के बाद भी मैदान खाली नहीं हो पा रहा है। शिक्षकों ने बताया कि इसकी जानकारी जिला शिक्षा अधिकारी को भी दी गई है, पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

2 करोड़ की लागत से बनेगा भवन, 80 लाख से मरम्मत
लिंगियाडीह स्कूल के प्राचार्य कौस्तुभ चटर्जी ने कहा कि बाउंड्रीवाल नहीं होने के कारण लोगों द्वारा मैदान का उपयोग किया जा रहा है। इससे परेशानी बनी हुई है। स्कूल भवन के मरम्मत के लिए 80 लाख और नए भवन के लिए लगभग 2 करोड़ रुपए स्वीकृत किए जाने की प्रक्रिया चल रही है। अगर ये हो गया तो जल्द ही समस्या दूर होगी।

बीईओ को निर्देश, व्यवस्थाएं दुरुस्त करें
जिला शिक्षा अधिकारी एसके प्रसाद ने कहा कि स्कूल मैदानों पर कब्जा की जानकारी मिली है। इस संबंध में बीईओ को निर्देश दिए गए हैं, कि स्थिति को देखते हुए मैदान को खाली कराएं। ताकि बच्चों को कोई परेशानी ना हो।

खबरें और भी हैं...