कहीं टूटी बेंच तो कहीं बैंड के साथ स्कूल शुरू:डेढ़ साल तक बंद रहे सरकारी स्कूलों की इमारत हो गई खस्ताहाल, पहला दिन व्यवस्था बनाने में गुजरा; निजी स्कूलों ने छात्रों का किया जोरदार स्वागत

बिलासपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बिलासपुर के लिंगियाडीह स्थित खस्ताहाल सरकारी स्कूल में कल से शुरू होगी पढ़ाई - Dainik Bhaskar
बिलासपुर के लिंगियाडीह स्थित खस्ताहाल सरकारी स्कूल में कल से शुरू होगी पढ़ाई

सरकारी स्कूल टपकती छतों, टूटी बेंच और गंदगी के बीच आज खुल गए। ऐसे अधिकांश स्कूलों में पढ़ाई शुरू नहीं हो सकी। कहीं स्टूडेंट्स स्कूल नहीं पहुंचे तो, कुछ जगहों में स्थानीय समिति की अनुमति नहीं मिली। उधर कुछ निजी स्कूलों में बाजे-गाजे के साथ छात्रों का स्वागत किया गया। यहां उपस्थिति भी अच्छी रही।

डेढ़ साल से बंद शासकीय स्कूल बदहाल

राज्य सरकार के निर्देश के बाद आज से स्कूलों का संचालन शुरू किया गया है। पहले चरण में दसवीं 12वीं और पहली से पांचवी तक के स्कूल शुरू किए गए हैं। बिलासपुर में अव्यवस्था के बीच स्कूलों का संचालन शुरू किया गया। डेढ़ साल से बंद पड़े अधिकांश स्कूल खस्ताहाल हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों की स्थिति सबसे ज्यादा खराब है। कहीं बारिश का पानी छतों से टपक रहा है,तो कही डेस्क बेंच टूटे पड़े हैं। बावजूद इसके आज कक्षाएं शुरू कर दी गई। यही वजह रही कि अधिकतर स्कूलों में व्यवस्था बनाने में ही पहला दिन बीत गया ।

लिंगियाडीह के स्कूल में टूटी हुई बेंच
लिंगियाडीह के स्कूल में टूटी हुई बेंच

अभी भी स्कूल खोलने जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक

कुछ स्कूलों में स्टूडेंट्स के नहीं पहुंचने के कारण भी सोमवार को पढ़ाई शुरू नहीं हो सकी है। वहीं कुछ स्कूल स्थानीय समिति के अनुमति नहीं मिलने के कारण शुरू नहीं किया जा सके हैं। हालांकि स्कूल प्रबंधन ऐसे स्थानों पर स्थानीय समिति व जनप्रतिनिधि से अनुमति लेकर स्कूल खोलने की तैयारी में है। स्कूल प्रबंधन अभिभावकों के साथ ही बैठक कर समन्वय बनाने में लगा हुआ है। मौजूदा वक्त में जिले में 223 हायर सेकंडरी और 1114 प्राथमिक स्कूल हैं। सरकार ने कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए 50 प्रतिशत क्षमता के साथ स्कूलों का संचालन शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

कुछ स्कूलों में बैंड के साथ बच्चों का हुआ स्वागत

शहर में कुछ ऐसे भी स्कूल रहे जहां आज ढोल-नगाड़ों के साथ पहला दिन शुरू हुआ। बर्जेस अंग्रेजी शाला में विद्यार्थियों का स्वागत बड़े उत्साह व उमंग के साथ बैंड की धुन में फूलों की माला और पंखुड़ियों की वर्षा कर स्वागत किया गया । शाला की प्राचार्या श्रीमती निशिता हंसा दास ने बताया कि कोरोना का प्रभाव कम होने से शासन के निर्देश का पालन करते हुए हमने शाला में ऑनलाइन व ऑफ़लाइन दोनों स्तर पर पढ़ाई शुरू की है। लंबे अंतराल के बाद बच्चों को शाला में आते देख बेहद खुशी का अनुभव हो रहा है। ईश्वर से प्रार्थना है जल्द ही पूरी क्षमता से शाला लगे।

सोमवार सुबह बर्जेस स्कूल में गाजे बाजे के साथ क्लासेस शुरू हुई
सोमवार सुबह बर्जेस स्कूल में गाजे बाजे के साथ क्लासेस शुरू हुई
खबरें और भी हैं...