लोगों ने पटरी पर बैठकर किया भजन-कीर्तन:ट्रेन स्टॉपेज की मांग को लेकर अनोखा प्रदर्शन, स्टेशन में भी हुआ विरोध; यात्री होते रहे परेशान

बिलासपुरएक महीने पहले
ट्रेनों के स्टाॅपेज शुरू करने की मांग को लेकर पटरी में नारेबाजी करते रहे प्रदर्शनकारी।

कोरोना काल के दौरान बिलासपुर में ट्रेनों को बंद कर छोटे रेलवे स्टेशनों में स्टॉपेज भी खत्म कर दिया है। इसके चलते यात्रियों को परेशानी हो रही है। बंद ट्रेनें शुरू करने व स्पेशल ट्रेनों का स्टॉपेज देने की मांग को लेकर मंगलवार को आंदोलनकारी पटरी व स्टेशन में बैठ गए और भजन कीर्तन करते रहे। मामला करगी रोड रेलवे स्टेशन का है।

करगीरोड कोटा स्टेशन में ट्रेनों की स्टॉपेज को लेकर पिछले 30 नवंबर से संघर्ष समिति के सदस्य आंदोलन कर रहे हैं। मंगलवार को आंदोलन को तेज करते हुए आंदोलनकारी पटरी पर बैठ गए। नाराज आंदोलनकारियों ने रेलवे स्टेशन व पटरी में बैठकर भजन-कीर्तन शुरु कर दिया। इस दौरान जमकर नारेबाजी भी की। आंदोलनकारी बंद ट्रेनों को शुरू करने व स्पेशल ट्रेनों के स्टॉपेज की मांग को लेकर अड़े हुए हैं।

रेलवे स्टेशन में भजन-कीर्तन करते आंदोलनकारी
रेलवे स्टेशन में भजन-कीर्तन करते आंदोलनकारी

ढाई माह से चल रहा है आंदोलन
ट्रेनों के स्टॉपेज बंद करने से नाराज लोगों ने नगर संघर्ष समिति का गठन किया है, जो पिछले ढाई माह से आंदोलन चला रहे हैं। पूर्व में संघर्ष समिति ने ना सिर्फ रेल रोको आंदोलन किया था, बल्कि क्षेत्र के तमाम जनप्रतिनिधियों औऱ रेलवे के अधिकारियों से मिलकर करगीरोड में पूर्व की भांति ट्रेनों के स्टाॉपेज शुरू करने की मांग की थी। लेकिन, अफसरों ने सिर्फ आश्वासन ही दिया और इस पर कोई कार्रवाई नहीं की।
युवक ने किया था आमरण अनशन
संघर्ष समिति की आंदोलन के दौरान ही 30 नवंबर को स्थानीय युवक राहुल गुप्ता ने आमरण अनशन भी शुरू किया था। उसने दो दिनों तक आमरण अनशन किया। नगरवासियों और अधिकारियों के आश्वासन के बाद युवक ने अनशन तोड़ा था। हालांकि, नगर संघर्ष समिति का आंदोलन जारी रहा। इस दौरान आंदोलनकारियों ने हस्ताक्षर अभियान भी चलाया।
समझाइश देते रहे पुलिसकर्मी
पटरी पर प्रदर्शन की खबर मिलते ही रेलवे स्टेशन परिसर में बड़ी संख्या में पुलिस बल भी तैनात कर दिया गया। इस दौरान पुलिस अफसर व जवान आंदोलनकारियों को समझाइश देते रहे।

खबरें और भी हैं...