तीन सेंटरों पर कोरोना जांच:छह कोरोना जांच सेंटर बंद, टेस्ट भी लक्ष्य से 38 प्रतिशत कम

बिलासपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अप्रैल और मई में जब कोरोना पीक पर था तब शहर में 9 सेंटरों पर हो रही थी जांच, अब सिर्फ तीन बचे

जिले में कोरोना की गति धीमी हो गई तो इधर जांच सेंटर बंद होने लगे। तीन माह में 6 सरकारी सेंटर बंद हो गए हैं। वर्तमान में सिर्फ तीन सेंटरों सिम्स, रेलवे स्टेशन और तिलक नगर में कोरोना जांच हो रही है। हाल में ही सीएमएचओ सेंटर के सामने व्यायाम शाला में चलने वाले जांच सेंटरों पर ताला लटक गया है। सेंटर बंद होने का मुख्य कारण है, जिन भवनों को स्वास्थ्य विभाग ने शासन से किराए पर मांगे थे, उन्होंने अपने भवन वापस मांग लिए हैं।

अब विभाग को नए भवन नहीं मिले तो जांच सेंटर ही बंद कर दिए गए। कर्मचारियों को जहां से बुलाया था, रिलीव कर वहां वापस भेजा जा रहा है। इतना तो ठीक अब जांच भी लक्ष्य से कम हो रही है। सिर्फ सितंबर के 18 दिनों के आंकड़ों पर नजर डालें तो लक्ष्य से 38 फीसदी जांच कम हुई है। रोज 2400 लोगाें के टेस्ट करने का टारगेट स्वास्थ्य विभाग को शासन से मिला है। सरकारी और निजी सेंटरों को मिलाकर दिनभर में 1400 से 1500 लोगों की ही जांच हो रही है। जबकि अप्रैल और मई में जब कोरोना पीक पर था तब रोज लक्ष्य से अधिक जांच हो रही थी। उस समय जिले में 9 सेंटरों पर कोरोना जांच हो रही थी। अब सबकुछ बंद हो रहा है। इसे अनुमान लगाया जा रहा है कि कोरोना अब जल्द विदा होने वाला है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अफसर इस बारे में कुछ कहने से बच रहे हैं।

ये सेंटर हो गए बंद

  • सीएमएचओ दफ्तर के सामने व्यायाम शाला।
  • उप स्वास्थ्य केंद्र उसलापुर
  • उप स्वास्थ्य केंद्र मोपका
  • मजदूर कांग्रेस भवन, तितली चौक।
  • लाइफ केयर हॉस्पिटल जूना बिलासपुर
  • साइंस कॉलेज

ये सेंटर अभी चालू हैं

  • सामुदायिक भवन तिलक नगर
  • मेडिकल कॉलेज सिम्स
  • रेलवे स्टेशन

5 मार्च 2020 को पहली जांच हुई थी, 6 लाख से अधिक टेस्ट
जिले में 5 मार्च 2020 को पहली कोरोना जांच हुई थी। विदेश से आने के बाद 22 वर्षीय युवती का टेस्ट किया गया था हालांकि रिपोर्ट निगेटिव थी। 19 महीने में अब 6 लाख 39 हजार 479 लोगों की जांच हो चुकी है। वहीं पांच लाख 72 हजार 685 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है तो 65 हजार 132 लोग कोरोना की चपेट में आए। 63 हजार 555 लोग ठीक होकर जा चुके हैं। 1553 लोगोें की मृत्यु हो चुकी है। संेटरों के लगातार बंद होने से लोगों को परेशानी हो रही है। अब उनकी सिम्स या तिलकनगर में जांच कराना मजबूरी है।

खबरें और भी हैं...