पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

धीमा काम:स्मार्ट सिटी: 56 माह में सिर्फ 4 काम, कुछ बंद हुए तो कुछ टेंडर में अटके

बिलासपुर6 दिन पहलेलेखक: सूर्यकान्त चतुर्वेदी
  • कॉपी लिंक
  • स्मार्ट सिटी के अंतर्गत 857 करोड़ के 73 प्रोजेक्ट चयनित

बिलासपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड को केंद्रीय अनुदान के लिए भारत सरकार ने 23 जून 2017 को चुना। स्मार्ट सिटी ने 857 करोड़ के 73 प्रोजेक्ट का चयन किया। 56 महीने में इनमें से 4 प्रोजेक्ट ही पूरे हो पाए। जबकि टेंडर 26 प्रोजेक्ट के लिए किया गया। वर्तमान में जिन प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है उनकी संख्या दो अंकों को छू नहीं सकी है। जनता को ट्रैफिक के जंजाल से मुक्ति दिलाने वाली आईटीएमएस की योजना अब तक अटकी हुई है। जिले की जीवनरेखा अरपा के किनारे 1800-1800 मीटर रोड और नाली निर्माण की महत्वाकांक्षी योजना का काम शुरू नहीं हो पाया है। शहरवासियों को मच्छरों से मुक्ति दिलाने के लिए प्रायोगिकतौर पर शुरू की गई योजना बंद करनी पड़ी। जनता को रोजमर्रा की जिंदगी में जिन समस्याओं से निजात दिलाने के लिए विश्वस्तरीय सुविधाएं देने का लक्ष्य है, वह पूरा होते नजर नहीं आ रहा है।

मच्छरों से मुक्ति, रेंट ए साइकल की योजना ड्राप
मच्छरों से मुक्ति की योजना: मास्क्विटो अलर्ट वार्निंग डिटेक्टशन एंड अलर्ट सिस्टम से मच्छरों को नियंत्रित करने के लिए 10 करोड़ की योजना पर तालापारा तालाब में प्रायोगिकतौर पर काम शुरू किया गया, परंतु वह सफल नहीं हो पाई। इसे बंद कर दिया गया है।
रेंट ए साइकल: एक स्थान से दूसरे स्थान तक आसानी से आवागमन के लिए किराए पर साइकल की योजना ड्राप कर दी गई है। इससे लोगों को आवागमन की आसान सुविधा मिलती।
अंडर ग्राउंड वायरिंग: भारत विद्युतीकरण योजना के अंतर्गत शहर भर की बिजली लाइनें भूमिगत करते हुए खुले हुए ट्रांसफार्मर और बिजली खंभों से मुक्ति दिलाने के लिए 399.87 करोड़ की योजना मार्च 2020 में केंद्र सरकार को भेजी गई। केंद्र से स्वीकृति नहीं मिली। खबर है कि शहर भर की सड़कों की एक बार फिर खुदाई से उत्पन्न होने वाली समस्या के भय से योजना को ही ड्राप कर िदया गया, इसीलिए केंद्र सरकार को योजना के लिए दोबारा स्मरण पत्र तक नहीं लिखा गया।

10 फीसदी कार्य पूर्ण, 40 फीसदी प्रक्रिया में, बाकी फाइलों में : स्मार्ट सिटी के अंतर्गत केंद्र और राज्यांश को मिला कर 114 करोड़ रुपए मिल चुके हैं। इनमें से 63 करोड़ रुपए खर्च किए जा चुके हैं। योजना और राशि के हिसाब से करीब 10 फीसदी ही कार्य पूर्ण हो पाए हैं। 30 से 40 फीसदी कार्य प्रक्रियाधीन हैं और इतनी ही योजनाओं की फाइल मूव तक नहीं हो पाई है।

जानिए कितनी योजनाएं पूरी हुईं, कितनी लेट चल रहीं
स्मार्ट सिटी के महाप्रबंधक(रेवेन्यू)खजांची कुम्हार के मुताबिक जरहाभाटा रोड से गणेश चौक की ओर पद्मश्री पं श्यामलाल चतुर्वेदी स्मार्ट रोड, सेंट्रल लाइब्रेरी में इन्क्यूबेशन सेंटर, डिजिटल लाइब्रेरी, शहर के 7 जगहों पर मुफ्त वाईफाई की सुविधा दी जा रही है। व्यापार विहार स्मार्ट रोड, प्लेनेटोरियम, नेहरू चौक से मुंगेली नाका चौक तक रोड के चौड़ीकरण, सौंदर्यीकरण का कार्य शामिल है। 1 करोड़ की लागतवाली शीतला मंदिर से इंदू चौक रोड चौड़ीकरण, 1.78 करोड़ की तिरंगा चौक से नेहरू नगर चौक स्मार्ट रोड के चौड़ीकरण का कार्य प्रचलित है।

सीधी बात
पीके पंचायती, प्रबंधक, स्मार्ट सिटी, बिलासपुर

​​​​​​​सवाल - 262 करोड़ की 26 योजनाओं के लिए टेंडर हुए। 4 काम ही पूर्ण हुए, प्रगति धीमी क्यों है?
-कंसल्टेंट की नियुक्ति 4 अक्टूबर 2018 को हुई। कई टेंडर में अपेक्षित कंपनियों ने दिलचस्पी नहीं दिखाई।
सवाल - स्मार्ट सिटी की कई महत्वाकांक्षी योजनाएं ड्राप कर दी गईं, कुछ फाइलों में चल रहीं?
-कोई योजना ड्राप नहीं की गई। रेंट ए साइकल को इंडिया साइकल फॉर चेंज में परिवर्तित कर रहे हैं। मच्छरों की योजना जरूर बंद है। भूमिगत बिजली तार बिछाने की योजना के लिए स्मरण पत्र लिखा जाएगा। आईटीएमएस के लिए आरएफपी तैयार हो रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज जीवन में कोई अप्रत्याशित बदलाव आएगा। उसे स्वीकारना आपके लिए भाग्योदय दायक रहेगा। परिवार से संबंधित किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर विचार विमर्श में आपकी सलाह को विशेष सहमति दी जाएगी। नेगेटिव-...

    और पढ़ें