कई ट्रेनों को किया कैंसिल:कुछ यात्री गंतव्य तक पहुंच ही नहीं पाए, मालगाड़ी पटरी पर पलटी, दुर्ग के यात्रियों को बसों से भेजा अंबिकापुर

बिलासपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मालगाड़ी के पलट जाने के बाद इस रूट पर आ रही दोनों ओर की ट्रेनों को रोक दिया गया। - Dainik Bhaskar
मालगाड़ी के पलट जाने के बाद इस रूट पर आ रही दोनों ओर की ट्रेनों को रोक दिया गया।

अंबिकापुर के निकट कमालपुर में खाली मालगाड़ी के 8 वैगन पटरी से उतरकर मिडिल व डाउन लाइन पर बिखर गए। इससे रेल यातायात बाधित हो गया। दुर्ग से अंबिकापुर जा रही एक्सप्रेस ट्रेन को बिजुरी में कैंसिल कर उसके यात्रियों को 5 बसों में भरकर अंबिकापुर भेजा गया ।

बिलासपुर कटनी रूट पर अनूपपुर से अंबिकापुर के बीच कमालपुर स्टेशन के समीप खाली मालगाड़ी के 8 वैगन पटरी से उतरकर मिडिल व अप लाइन पर जाकर बिखर गए। इससे तीनों लाइन ब्लॉक हो गई। इस बीच उस रूट पर आ रही दोनों ओर की ट्रेनों को रोक दिया गया। उसी समय दुर्ग से अंबिकापुर जा रही एक्सप्रेस ट्रेन बिजुरी रेलवे स्टेशन पहुंची वहां पर ट्रेन को कैंसिल कर दिया गया। उस ट्रेन में 500 से अधिक यात्री थे जिनके लिए रेलवे प्रशासन ने रेलवे स्टेशन के सामने बसों की व्यवस्था की थी जिन्हें अंबिकापुर तक जाना था उन यात्रियों को बस में भेजा गया। कुछ यात्री तो अपनी सुविधा से अपने-अपने गंतव्य स्थान पर चले गए। इसके बाद शहडोल अंबिकापुर मेमू पहुंची तो उसे भी कैंसिल करके उनके यात्रियों का पैसा रिफंड किया गया। अंबिकापुर से शहडोल होते हुए जबलपुर जाने वाले मेमू को भी कैंसिल कर दिया गया। यह ट्रेन गई ही नहीं। शहडोल मेमू को वहीं से वापस शहडोल के लिए रवाना कर दिया गया।

दुर्ग एक्सप्रेस रात में अंबिकापुर से छूटी
कमालपुर के पास जो मालगाड़ी पटरियों पर पलटी वह खाली थी इसलिए उसे उठाने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी। दोपहर तक रास्ता साफ हो गया और ट्रेनों का आवागमन शुरू किया गया। जिस ट्रैक पर मालगाड़ी पलटी थी उसमें मरम्मत का काम चलता रहा। रास्ता साफ होते ही बिजुरी में खड़ी दुर्ग एक्सप्रेस की रेक को अंबिकापुर रवाना किया गया। रात में 10 बजे अंबिकापुर-दुर्ग एक्सप्रेस को अंबिकापुर से ही रवाना किया गया।

खाली रैक होने से नुकसान कम
बीसीएन एमटी रैक होने की वजह से पटरियों को ज्यादा नुकसान हुआ। अलबत्ता मालगाड़ी की रफ्तार अधिक होने की वजह से खाली वैगन पटरी से उतरते ही चारों तरफ बिखर कर तीनों लाइन तक पहुंच गए। अगर ये वैगन भरे होते तो एक ही ही पटरी प्रभावित होती। अफसर यह जांच कर रहे हैं कि हादसा आखिर क्यों हुआ। संभवत यह हादसा रेल फ्रैक्चर की वजह से हुआ होगा। हालांकि इसकी जांच के लिए मंडल स्तर पर अधिकारियों की टीम गठित कर दी गई है।

खबरें और भी हैं...