बड़ा हादसा टला:जनशताब्दी में पथराव, आरपीएफ मौके पर पहुंची तो मिले बच्चे‎

बिलासपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रायगढ़-गोंदिया जनशताब्दी एक्सप्रेस अपनी पूरी रफ्तार से भाटापारा रेलवे स्टेशन के करीब पहुंच रही थी। लगभग डेढ़ किलोमीटर पहले झुग्गी-झोपड़ी की तरफ से ट्रेन में पथराव होने लगा। पत्थर बोगियों से टकराए इसलिए किसी तरह की कोई टूट-फूट नहीं हुई। आरपीएफ के जवान मौके पर पहुंचे तो वहां पर बच्चे पत्थर फेंककर खेल रहे थे।

उन्हें समझाइश दी गई साथ ही उनके परिजनों को चेतावनी दी गई कि बच्चों को रेलवे लाइन की तरफ न जाने दें और यह देखें कि वे किसी ट्रेन पर पत्थर न फेंकें। रायगढ़ से गोंदिया तक जाने वाली जनशताब्दी एक्सप्रेस सुबह 9 बजे बिलासपुर स्टेशन से रायपुर की ओर रवाना हुई। भाटापारा पहुंचने में ट्रेन को 45 मिनट लगते हैं। ट्रेन भाटापारा रेलवे स्टेशन से लगभग डेढ़ किलोमीटर पहले आउटर के करीब पहुंची ही थी कि ट्रेन की बोगी में पत्थर आकर लगे।

एक पत्थर खिड़की के राड पर भी आकर लगा। वहां पर बैठे यात्री ने तत्काल इसकी शिकायत टीटीई से की उन्होंने आरपीएफ को सूचना दी। सूचना मिलते ही आरपीएफ के जवानों ने सबसे पहले प्लेटफार्म पर पहुंची जनशताब्दी एक्सप्रेस का निरीक्षण किया। इसमें किसी यात्री को चोट लगने की बातें कही जा रही थी लेकिन ट्रेन में ऐसा कोई नहीं मिला। न ही ट्रेन के किसी कोच की खिड़की के शीशे ही टूटे पाए गए।

वार्ड पार्षद को बुलाकर मांगा सहयोग‎
भाटापारा का झुग्गी-झोपड़ी वाला इलाका जिस वार्ड में आता है वहां के वार्ड पार्षद को बुलाकर आरपीएफ ने उनसे कहा कि वे क्षेत्र के लोगों को समझाएं कि वे अपने बच्चों को इस तरह से ट्रेनों में पथराव करने से मना करें। इससे किसी दिन कोई बड़ा हादसा हो सकता है। आरपीएफ के जवानों ने मौके पर जाकर बच्चों और उनके परिजनों को स्वयं भी समझाइश दी है। बिलासपुर और रायपुर डिवीजन में दो ऐसे स्थान हैं जहां पर साल में एक या दो बार ट्रेनों में पथराव होता ही है।

खबरें और भी हैं...