बिलासपुर में JEE मेंस एग्जाम में सर्वर फेल:स्टूडेंट्स और पैरेंट्स ने मचाया हंगामा;प्रिंसिपल ने NTA से की शिकायत;फिर से परीक्षा का आश्वासन

बिलासपुर3 महीने पहले

बिलासपुर में JEE मेंस एग्जाम में सर्वर में दिक्कत होने से स्टूडेंट्स और पेरेंट्स ने जमकर हंगामा मचाया। दरअसल, एग्जाम सेंटर में नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) का सर्वर डाउन हो गया। इसके चलते वेबसाइट में ऑनलाइन लॉगिंग करने के बाद आधे-अधूरे सवाल दिख रहे थे। स्टूडेंट्स और पेरेंट्स हंगामा मचाने लगे। इस दौरान प्रिंसिपल ने NTA को इसकी जानकारी दी, तब दोबारा एग्जाम लेने का भरोसा दिलाया गया। इसके बाद स्टूडेंट और परिजन शांत हुए।

NTA से शिकायत करने के बाद भी नहीं निकला समाधान।
NTA से शिकायत करने के बाद भी नहीं निकला समाधान।

देश के इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश के लिए जॉइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (JEE Mains) की जिम्मेदारी NTA को दी गई है। JEE MAINS एग्जाम के लिए NTA ने एडमिट कार्ड जारी कर परीक्षा तिथि घोषित कर दी थी। इसके लिए बिलासपुर में चौकसे इंजीनियरंग कॉलेज को सेंटर बनाया गया है। तय कार्यक्रम के अनुसार 23 जुलाई से एग्जाम शुरू हुआ। पहले दिन आर्किटेक्ट सब्जेक्ट के स्टूडेंट्स ने सुबह 9 से 12 और दोपहर 3 से 6 बजे के बीच दो पालियों में परीक्षा दी थी। फर्स्ट अटेम्प्ट का यह एग्जाम 29 जून तक चलेगा।

पहले दिन से ही थी समस्या
शुक्रवार की सुबह की पाली में एग्जाम के दौरान स्टूडेंट्स को सर्वर डाउन होने के कारण दिक्कतें शुरू हुईं, तब उन्होंने इसकी जानकारी कॉलेज के प्राचार्य और एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर प्रो. डॉ. नितिन जैन को दी। शुरुआत में उन्होंने इसे NTA पर जिम्मेदारी थोप दी और अपनी तरफ से कुछ भी होने से इनकार कर दिया। हालांकि, एग्जाम के दौरान अंतिम आधे घंटे में सर्वर ठीक हुआ, जिसके बाद स्टूडेंट्स ने एग्जाम दिया लेकिन, समय की कमी के कारण पूरे सवाल हल नहीं कर पाए। दूसरी पाली के एग्जाम में साइट ही नहीं खुल रहा थी। तब स्टूडेंट्स ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया। इस दौरान उनके पेरेंट्स भी पहुंच गए और एग्जाम में तकनीकी दिक्कतों को लेकर आपत्ति जताई। लेकिन, कॉलेज में मौजूद नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के पर्यवेक्षकों ने भी हाथ खड़े कर दिए।

हंगामे और विवाद की खबर मिलने पर कॉलेज पहुंची पुलिस।
हंगामे और विवाद की खबर मिलने पर कॉलेज पहुंची पुलिस।

हंगामा मचाने के बाद हरकत में आए पर्यवेक्षक
स्टूडेंट्स और पेरेंट्स के हंगामा मचाने के बाद नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के अधिकारी सुलभ निगम सिटी कॉर्डिनेटर डॉ. गुरुशरण लाल ने माना कि JEE में सर्वर के कारण इस तरह की दिक्कतें हुई है। दूसरे पाली की परीक्षा में टेस्टिंग एजेंसी का सर्वर पूरी तरह खराब हो गया, जिसके कारण द्वितीय पाली की परीक्षा समय पर शुरू नहीं हो सकी। फिर आखिर तक उसका समाधान भी नहीं हो सका। हालांकि, और अधिकारियों ने नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के आला अधिकारियों से चर्चा की। इसके बाद स्टूडेंट्स और पेरेंट्स को दोबारा एग्जाम लेने का भरोसा दिलाया। तब जाकर विवाद शांत हुआ।

स्टूडेंट्स हल नहीं कर पाए सवाल।
स्टूडेंट्स हल नहीं कर पाए सवाल।

एग्जाम सेंटर में सर्वर में आई तकनीकी खराबी के कारण स्टूडेंट्स और उनके परिजनों ने कॉलेज के प्राचार्य सहित NTA के अफसरों से शिकायत की। लेकिन, अफसर उनकी बातों को सुनने के लिए तैयार ही नहीं थे। इस पर विरोध करते हुए उन्होंने कहा कि स्टूडेंट्स एग्जाम के लिए कड़ी मेंहनत किए हैं। ऐसे में सवाल ही पता नहीं होने पर जवाब कैसे दिया जा सकता है। इस स्थिति में उनका पूरा साल खराब हो जाएगा। उन्होंने सर्वर डाउन होने की लिखित में भी शिकायत दर्ज कराई है।

कॉलेज पहुंच गई पुलिस
हंगामा व विवाद होने की खबर पुलिस कंट्रोल रूम को दी गई। जानकारी मिलते ही तोरवा पुलिस की टीम भी मौके पर पहुंच गई। इस दौरान पुलिस ने कॉलेज प्रबंधन और NTA के अफसरों से चर्चा कर जानकारी ली। तब उन्हें बताया कि NTA का सर्वर डाउन होने के कारण स्टूडेंट्स और पेरेंट्स परेशान हैं। इसलिए विवाद की स्थिति बनी है। इस पर पुलिस ने उन्हें समझाइश देकर मामला शांत कराया।