यूक्रेन से वतन वापसी आसान नहीं:स्टूडेंट्स बोले- खारकीव और कीव में कर्फ्यू, बमबारी से बॉर्डर तो दूर, बंकर से नहीं निकल पा रहे

बिलासपुर9 महीने पहले
मां-बाप को खुश रखने चेहरों में खुशी लिए बच्चे वहां से सेल्फी भेज रहे हैं।

यूक्रेन के राजधानी कीव और खारकीव में फंसे छत्तीसगढ़ समेत भारत के कई राज्यों के स्टूडेंट्स की मुश्किलें कम होने के बजाए बढ़ती जा रही है। उन्होंने दैनिक भास्कर को बताया कि देश के ज्यादातर स्टूडेंट्स कीव, खारकीव और आसपास के शहरों में हैं, जहां हालात बेहद ही खराब हैं। उन्हें बॉर्डर पहुंचना तो दूर बंकर से बाहर निकलना मुश्किल हो गया है। क्योंकि, यहां बमबारी हो रही है और यूक्रेन सेना ने कर्फ्यू लगा दिया है। दूतावास की तरफ से भी उन्हें बाहर निकालने का कोई इंतजाम नहीं किया जा सका है।

बमबारी के बीच बंकर में सुरक्षित हैं CG की बेटियां
बमबारी के बीच बंकर में सुरक्षित हैं CG की बेटियां

यूक्रेन में फंसे छत्तीसगढ़ के बिलासपुर, जांजगीर-चांपा और आसपास के स्टूडेंट्स और उसके दोस्तों ने एक ग्राफिक्स वीडियो भेजा है। जिसमें यूक्रेन में युद्ध के बाद पूर्वी इलाकों में उपजे हालात को बयां किया गया है। स्टूडेंट्स ने इस वीडियो में बताया है कि यूक्रेन में खारकीव, कीव सहित आसपास का इलाका बहुत ही संवेदनशील है। जहां लगातार बमबारी हो रही है। ऐसे में दूतावास ने उन्हें बंकर और मेट्रो में शरण लेने की सलाह दी है। इस हालात में यूक्रेन सेना ने कर्फ्यू लगा दिया है। यहां ट्रेनों के साथ ही गाड़ियां बंद है। स्थिति यह है कि बंकर और मेट्रो से निकलना तक मुश्किल हो रहा है।

सुरक्षा के लिए जमीन पर सोने की मजबूरी
सुरक्षा के लिए जमीन पर सोने की मजबूरी

बॉर्डर पहुंचने के लिए 12 से 1800 किमी तय करना पड़ेगा सफर
छात्रों ने इस ग्राफिक्स के जरिए यह भी बताने की कोशिश भी है कि उनके लिए पोलैंड, हंगरी और रोमानिया बॉर्डर पहुंचने के लिए 12 से 1400 किलोमीटर तक सफर करना पड़ेगा। जो कर्फ्यू के हालात में बिना सुरक्षा के संभव ही नहीं है। इतनी लंबी दूरी तक सफर कर बॉर्डर तक पहुंचना खतरनाक है। क्योंकि, इन इलाकों में बमबारी के बाद सड़कों की हालत खराब हो गई है। कई जगह ब्रिज टूट गए हैं। ऐसे में उन्हें बंकर और मेट्रो में रहना ज्यादा सुरक्षित महसूस हो रहा है। दूतावास ने भी उन्हें यही सलाह दी है।

बंकर में कट रहे दिन
बंकर में कट रहे दिन

खारकीव, कीव और आसपास फंसे हैं 15 हजार स्टूडेंट्स
वीडियो में बताया गया है कि खारकीव, कीव के साथ ही सुम्मी, पुलतावा, डेनिपर सहित आसपास में ही 12 से 15 हजार स्टूडेंट्स फंसे हुए हैं। कर्फ्यू की स्थिति में फंसे हुए इन स्टूडेंट्स को बंकर से बाहर निकालना आसान नहीं है। क्योंकि, यहां रूस के साथ ही यूक्रेन की सेना के बीच युद्ध चल रहा है।

पश्चिमी शहर के स्टूडेंट्स आसानी से पहुंच रहे बॉर्डर
बताया गया है कि यूक्रेन में फंसे वही बच्चे पोलैंड, हंगरी और रोमानिया बॉर्डर तक आसानी से पहुंच रहे हैं, जो पश्चिमी शहरों में रह रहे हैं। वहां युद्ध की हालात नहीं हैं और बसें, टैक्सी और ट्रेन की सुविधा उपलब्ध है। यही वजह है कि दूतावास ने उन्हें बॉर्डर तक पहुंचने की सलाह दी है। इसके साथ ही पश्चिमी शहरों में फंसे स्टूडेंट्स को रेलवे स्टेशन में पहुंचकर ट्रेन के जरिए बॉर्डर पहुंचने कहा जा रहा है।

CG के साथ ही दूसरे स्टेट्स के बच्चे भी बंकर और मेट्रो में गुजार रहे दिन और रात
CG के साथ ही दूसरे स्टेट्स के बच्चे भी बंकर और मेट्रो में गुजार रहे दिन और रात

छात्रों की केंद्र सरकार से अपील रूस और यूक्रेन की मदद से बन सकता है सेफ जोन
ग्राफिक्स वीडियो में छात्रों ने यह भी स्पष्ट किया है कि यूक्रेन के खारकीव, कीव और पूर्वी शहरों में फ्लाई एयर का कनेक्शन टूट गया है। लेकिन, खारकीव से मात्र 71 किमी की दूरी में रूस बॉर्डर है। जहां रूस का बुलगार्ड एयरपोर्ट है। यहां तक पहुंचने में स्टूडेंट्स को सिर्फ एक घंटे का सफर तय करना पड़ेगा। लेकिन, इस इलाके में रूस और यूक्रेन की सेना तैनात हैं और उनके बीच युद्ध चल रहा है। लगातार बमबारी हो रही है। ऐसे में इस मार्ग में सेफ जोन बनाकर छात्रों को निकाला जा सकता है। हालांकि, यह बेहद मुश्किल काम है। लेकिन, केंद्र सरकार को इसके लिए पहल करना चाहिए। ताकि, 15 हजार स्टूडेंट्स को सुरक्षित बाहर निकाला जा सके।

दूतावास ने जारी की है एडवाइजरी
दूतावास ने जारी की है एडवाइजरी

रेलवे स्टेशन की तरफ न जाएं स्टूडेंट्स
यूक्रेन में सोशल मीडिया में यह बातें हो रही है कि दूतावास ने खारकीव, कीव और आसपास के शहरों में फंसे स्टूडेंट्स को पश्चिम शहर की ओर जाने की सलाह दी है। कुछ स्टूडेंट्स एजेंट और स्थानीय लोगों की मदद से खारकीव और कीव से बस-टैक्सी से निकलने की बात कह रहे हैं। ऐसे में दूतावास ने स्पष्ट किया है कि नए इनपुट के आधार पर खारकीव, कीव और आसपास फंसे भारतीय स्टूडेंट्स जागरूक रहें। जिन शहरों में कर्फ्यू लागू हैं, वहां से निकलने की सलाह दूतावास ने नहीं दिया है और न ही उन्हें रेलवे स्टेशन तरफ जाने की सलाह दी गई है। उन्हें कर्फ्यू हटने तक इंतजार करने के लिए कहा गया है।

बंकर और मेट्रो में सुरक्षित हैं स्टूडेंट्स, पर खाने-पीने की हो रही दिक्कतें
यूक्रेन के जिन इलाकों में बमबारी और युद्ध चल रहे हैं। वहां फंसे स्टूडेंट्स बंकर और मेट्रो में ज्यादा सुरक्षित हैं। बशर्तें उन्हें इस हालात में बाहर निकालने के। कर्फ्यू की वजह से उन्हें खाने, पीने और बिजली जैसे मूलभूत जरूरतों के लिए दिक्कतें हो रही हैं।

खबरें और भी हैं...