पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विकास की विडंबना:5 सड़कों के लिए एक साल पहले टेंडर, निर्माण के लिए कर्ज लेने की नौबत

बिलासपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • अफसरों ने सड़कों का टेंडर इस प्रत्याशा में कर दिया कि टेंडर होने के बाद कर्ज मिलने पर सड़कों का निर्माण कर दिया जाएगा लेकिन अब सबकुछ ठप

सड़क बनाने के लिए टेंडर एक साल पहले हो गया लेकिन वर्क आर्डर जारी नहीं हो पाया। यह कमाल फिलहाल लोक निर्माण विभाग की उन सड़कों के लिए हो रहा है जो कर्ज लेकर बनाई जाएंगी। एक्सपर्ट कहते हैं राशि का प्रावधान होने के बाद ही टेंडर किए जाने चाहिए। राज्य भर की 161 सड़कों में जिले की 5 सड़कें भी शामिल हैं जिनका टेंडर पहले हो गया और अब उसे बनाने के लिए कर्ज देने वाले का इंतजार हो रहा है।

यह प्रक्रिया मार्च 2020 से शुरू हो चुकी है। इन सड़कों का टेंडर इस प्रत्याशा में कर दिया गया कि टेंडर होने के बाद कर्ज मिलने पर सड़कों का निर्माण कर दिया जाएगा लेकिन अभी कर्ज का ही अता पता नहीं है। बजट में शामिल सड़कों के लिए प्रावधानों के अनुसार पहले वित्तीय स्वीकृति मंजूर होती है और उसके बाद ही टेंडर लगाए जाते हैं। टेंडर खुलने के बाद वर्क आर्डर जारी होते हैं। जिले समेत राज्य भर में ऐसी सड़कों के लिए भी यही किया गया है। टेंडर होने के बाद यह सड़कें निर्माण के लिए अब कर्जदाता बैंक का इंतजार कर रहीं हैं।

जिले की 17.56 किलोमीटर की 26.04 करोड़ की सड़कें शामिल
जिले की ऐसी 5 सड़कें शामिल है जो कुल 26.04 करोड़ रुपए की है और जिनकी कुल लंबाई 17.56 किलोमीटर है। इनमें बोदरी बोडसरा से खुडियाडीह होते हुए झाल तक,रतनपुर के बादल महल से रतनपुर तक ,मंगला भैंसाझार से दीनदयाल कालोनी तक,बिलासपुर के कोनी से सरस्वती शिशु मंदिर और बिलासपुर के टेकारी से पथराटाल तक की सड़कें शामिल हैं।

एक्सपर्ट कहते हैं ऐसा होना तो नहीं चाहिए
लोक निर्माण के पूर्व चीफ इंजीनियर सुरेंद्र कुमार जैन बताते हैं कि सड़क निर्माण के लिए दो तरह के काम होते हैं। पहला यह कि एनुअल पेच रिपेयरिंग के काम में एकमुश्त राशि का प्रावधान होता है। दूसरा यह कि बजट में प्रावधान की जाने वाली सड़कों के निर्माण के लिए राशि का प्रावधान होता है और उसके बाद टेंडर व वर्क आर्डर जारी होते हैं।

चीफ इंजीनियर ने कहा, एग्रीमेंट के लिए मना किया गया है : बिलासपुर सर्किल के चीफ इंजीनियर पीएन साय ने कहा कि टेंडर अभी भी हो रहे हैं। इन सड़कों के निर्माण के लिए कर्ज लिए जाने हैं लेकिन अभी फाइनल नहीं हो पाया है। यह शासन स्तर की बात है, मैं यह नहीं बता सकता कि कर्ज की प्रक्रिया कब तक फाइनल होगी। यह जरूर है कि एग्रीमेंट के लिए फिलहाल मना किया गया है।

जानिए बिलासपुर से कौन सी सड़क कितनेे किलोमीटर की है शामिल

  • मंगला-भैसाझार से दीनदयाल कालोनी, 3.52,561.02
  • बिलासपुर कोनी से सरस्वती शिशु मंदिर, 3.70,519.06
  • बिलासपुर टेकारी से पथराटाल, 3.55,598.24
  • खुडियाडीह से झाल तक, 3.54,430.47
  • रतनपुर से कोटा मार्ग पर बादल महल, 3.25,495.35
खबरें और भी हैं...