दो साल बाद चेन्नई से गिरफ्तार हुआ धोखेबाज:बिलासपुर के व्यापारी से की थी 25 लाख रुपए की धोखाधड़ी; 77.37 लाख रुपए के ट्रांसफार्मर मंगवाए, 52.17 लाख रुपए देकर हुआ गायब

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने साइबर सेल की मदद से आरोपी सुब्रमण्यम चंद्रु को चेन्नई से गिरफ्तार किया है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने साइबर सेल की मदद से आरोपी सुब्रमण्यम चंद्रु को चेन्नई से गिरफ्तार किया है।

बिलासपुर में एक व्यापारी से 25 लाख रुपए की ठगी करने के मामले में पुलिस ने दो साल बाद चेन्नई से एक व्यवसायी को गिरफ्तार किया है। आरोपी व्यवसायी ने ट्रांसफार्मर मंगवाने के बाद पेमेंट नहीं किया था। जो चेक दिया, वह भी बाउंस हो गया था। सिरगिट्टी पुलिस ने साइबर सेल की मदद से आरोपी को पकड़ लिया।

सकरी क्षेत्र के रामा वैली निवासी योगेश गुप्ता सिरगिट्टी औद्योगिक क्षेत्र में बिलासपुर ट्रांसफार्मर का संचालन करते हैं। साल 2019 में चेन्नई स्थित बलाजावाद रोड मनीवक्कम रामनगर के बालाजी इलेक्ट्रिकल के संचालक सुब्रमण्यम चंद्रु ने संपर्क किया था। तब, योगेश गुप्ता से 200 ट्रांसफार्मर का सौदा किया। डील फाइनल होने के बाद योगेश ने दो ट्रेलर में 77.37 लाख रुपए के 79 ट्रांसफार्मर चेन्नई भेज दिए।

इसके बाद सुब्रमण्यम ने अपना मोबाइल बंद कर दिया, साथ ही पत्र के जवाब भी नहीं दिया। योगेश ने ई-मेल और वाट्सएप पर मैसेज किया। इसके बाद सुब्रमण्यम ने 52.17 लाख रुपए दे दिए, शेष रकम के लिए चेक दिया था, जो बाउंस हो गया। बहुत प्रयास करने के बाद भी जब योगेश को बकाया रकम नहीं मिली तो उसने पुलिस में शिकायत की। पुलिस ने धारा 420 के तहत मामला दर्ज कर सुब्रमण्यम की तलाश शुरू की। दो साल बाद आरोपी चेन्नई में पुलिस की पकड़ में आया।