गड़बड़ी छिपा रहे, खस्ता सड़कों की संख्या घटाने का खेल:निगम ने पहले 29 सड़कें खराब बताईं फिर सिर्फ 5 को मरम्मत योग्य माना

बिलासपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुराना सब्जी मंडी सड़क पर गड्ढे। निकलने के लिए रास्ता ढूंढना पड़ रहा लोगों को। - Dainik Bhaskar
पुराना सब्जी मंडी सड़क पर गड्ढे। निकलने के लिए रास्ता ढूंढना पड़ रहा लोगों को।

हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर होने के बाद नगर निगम और पीडब्ल्यूडी ने जर्जर सड़कों के सुधार और कार्य योजना के बारे में अपनी रिपोर्ट सौंप दी है पर न्यायमित्र सभी सड़कों को जर्जर बता रहे हैं। इधर सड़कों की सूची को लेकर हेरफेर करने की कोशिश शुरू हो गई है।

आयुक्त नगर निगम द्वारा ईई पीडब्ल्यूडी को 21 सितंबर को भेजे पत्र में बताया गया है कि पीडब्ल्यूडी की कार्य योजना में 29 सड़कें जिसकी लंबाई 77.53 किलोमीटर है, में से 24 सड़कों पर मरम्मत की आवश्यकता नहीं बताई गई है। जिन पांच सड़कों को मरम्मत के योग्य बताया गया है, उनमें उस सड़क का जिक्र ही नहीं है, जिसमें हाल ही में एक बच्ची की दुर्घटनाग्रस्त हो गई और उसका एक हाथ टूट गया। इस सड़क का नाम खुद आयुक्त ने अपने दूसरे पत्र में किया है। यह पत्र चीफ इंजीनियर पीडब्ल्यूडी को 27 सितंबर को लिखा गया। इसमें ‘अशोक नगर से आशाबंद मार्ग’का खासतौर पर जिक्र करते दुर्घटना का हवाला देते सुधार करने कहा है। बड़ा सवाल यह है कि जिस सड़क पर दुर्घटना के बाद उसके सुधार के लिए आयुक्त को पत्र लिखना पड़ा, वह पीडब्ल्यूडी के मरम्मत योग्य सड़क में शामिल नहीं है। इससे समझा जा सकता है कि सड़कों के सुधार से पहले अफसर उनकी संख्या कम करने के काम में जुट गए हैं। जबकि हकीकत ये है कि शहर की अधिकांश सड़कें चलने योग्य नहीं हैं।

24 करोड़ में बनी निगम की 62 सड़कें उखड़ी
नगर निगम ने वर्ष 2017-18 में 24 करोड़ की लागत से 62 सड़कों का डामरीकरण किया। इसमें से कुछ सीसी सड़कें भी शामिल हैं। इनकी पीजी की अवधि हाल ही में समाप्त हुई है। ‘’दैनिक भास्कर’ ने साल भर पूर्व पीजी के अंतर्गत ठेकेदारों से इसका सुधार कराने के लिए आगाह करने वाली खबर प्रकाशित की। तत्कालीन एसई जीएस ताम्रकार ने सारी सड़कों का सर्वे कराया तो सत्यापन में अधिकांश सड़कों को सुधार के योग्य पाया गया। हैरत की बात यह है कि पीजी की अवधि गुजर गई परंतु इनका सुधार नहीं कराया गया।पुराना सब्जी मंडी सड़क पर गड्ढे। निकलने के लिए रास्ता ढूंढना पड़ रहा लोगों को।

निगम की सड़कों का इस्टीमेट तैयार हो रहा
नगर निगम के डिप्टी कमिश्नर खजांची कुम्हार ने बताया कि निगम की सड़कों के सुधार के लिए आठों जोन कार्यालय से रिपोर्ट मंगवाई गई है। 30 सितंबर तक इनका इस्टीमेट तैयार कर राशि के िलए शासन को प्रस्ताव भेजा जाएगा।

खबरें और भी हैं...