परिवार के साथ मिलकर दूसरे पति की हत्या:दो दिन बाथरूम में छिपाया था शव, बदबू आने पर गड्ढे में फेंका; 4 आरोपी गिरफ्तार

बिलासपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हत्या के आरोपी महिला, पूर्व पति, बेटा और भाई को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। - Dainik Bhaskar
हत्या के आरोपी महिला, पूर्व पति, बेटा और भाई को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में पति की हत्या करने वाली महिला उसके भाई, बेटा और उसके पहले पति को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। महिला ने उससे दूसरी शादी रचाई थी। लेकिन, उसका पति उसे अपने बेटा और पहले पति से मिलने के लिए मना कर आए दिन मारपीट करता था। 12 अगस्त को जब वह अपने भाई के घर गई थी, तब पति ने गाली देते हुए मारपीट किया था। उसकी हरकतों से तंग आकर पत्नी ने अपने रिश्तेदारों के साथ मिलकर उसकी हत्या कर दी थी। फिर शव को सड़क किनारे गड्‌ढे में फेंक दिया था। घटना सकरी थाना क्षेत्र की है।

सरकंडा क्षेत्र के चांटीडीह में रहने वाला सैयद कमाल (38) रोजी मजदूरी का काम करता था। वह रविवार को घर से काम करने निकला था। लेकिन, देर शाम तक घर नहीं लौटा। तब उसके परिजनों ने उसकी तलाश शुरू की। लेकिन, उसका कुछ पता नहीं चला। इससे परेशान परिजनों ने सरकंडा थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। 15 अगस्त की सुबह सैदा-घुरू रोड में गड्ढे में एक शव मिला। लाश के साथ उसका आधार कार्ड भी मिला, जिससे उसकी पहचान सैयद कमाल के रूप में की गई।

मृतक के शरीर में मिले थे चोट के निशान
युवक के शरीर में कई जगह चोट के निशान मिले, जिसे देखकर पुलिस ने उसकी हत्या की आशंका जताते हुए जांच शुरू कर दी। इस बीच पोस्टमार्टम रिपोर्ट में युवक का गला दबाने और सिर सहित अन्य हिस्सों में भारी हथियार मारने से उसकी मौत होने की पुष्टि की गई। इधर, पुलिस की जांच और पूछताछ में पता चला कि मृतक ने सुमित्रा तिवारी मानिकपुरी महिला के साथ दूसरी शादी कर सिविल लाइन क्षेत्र के जरहाभाठा में रहता था।

गायब होने की जानकारी देकर फरार हो गई थी महिला
पुलिस ने मृतक सैयद कमाल की पहली पत्नी और परिजनों से पूछताछ की, तब उन्होंने बताया कि वह 12 अगस्त की शाम 4.30 बजे से गायब था। 13 अगस्त को सुमित्रा ने भी उसके घर नहीं आने की जानकारी दी थी। साथ ही बताया कि उसकी स्कूटी जरहाभाठा चौक के पास खड़ी है। इसके बाद सुमित्रा अपने घर में ताला लगाकर गायब हो गई थी।

हत्या के बाद दो दिन तक बाथरूम में रखा था शव
इधर, संदिग्ध आरोपी सुमित्रा की जानकारी जुटाने पुलिस भी उसके घर गई, तब ताला बंद मिला। इसके बाद उसके भाई राजकुमार महंत के सकरी स्थित मकान पहुंचे, तब महिला अपने भाई के घर में मिली। पुलिस ने उससे पूछताछ की तो पहले वह गुमराह करती रही। सख्ती से पूछताछ करने पर महिला ने अपने भाई राजकुमार, पूर्व पति जग जीवन प्रसाद तिवारी और बेटा दीपक तिवारी के साथ मिलकर हत्या करने की बात कही। उसने बताया कि 12 अगस्त की रात सैयद शराब के नशे में गाली दे रहा था। इस दौरान उसने मारपीट किया, तब उसके भाई, बेटा और पूर्व पति ने राड से हमला किया और फिर गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। उसने यह भी बताया कि शव को दो दिन तक बाथरूम में छिपाकर रखे थे। फिर बदबू आने पर उसके बाइक में ले जाकर गड्‌ढे में फेंककर आ गए थे।

आधार कार्ड से हुई पहचान और खुल गया हत्या का राज
पुलिस को जब युवक की लाश मिलने की सूचना मिली, तब पानी में डूबे होने और शव के क्षतविक्षत होने की वजह से उसकी पहचान नहीं हो पा रही थी। इस दौरान पुलिस ने उसके पास से आधार कार्ड बरामद किया, जिसके आधार पर उसकी पहचान हुई। मृतक की पहचान होने के बाद पुलिस को हत्यारों की तलाश करने में आसानी हुई और आरोपी महिला समेत उसके रिश्तेदारों से पूछताछ कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

खबरें और भी हैं...