कोरोना के सबसे ज्यादा एक्टिव केस पॉश कॉलोनियों में:बस्तियों में संख्या कम भीड़भाड़ वाले इलाकों में घूमने-फिरने वाले लोगों में संक्रमण का खतरा अधिक

बिलासपुर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिम्स ओपीडी में जांच कराने पहुंचे लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar
सिम्स ओपीडी में जांच कराने पहुंचे लोगों की भीड़।
  • माइक्रो कंटेनमेंट जोन में अज्ञेय नगर हेमू नगर, प्रियदर्शनी नगर, राजेंद्र नगर महामाया विहार जैसे इलाके शामिल

कोविड-19 के सबसे ज्यादा केस ऐसी जगहों से निकल रहे हैं जो शहर की पॉश कॉलोनियों में शुमार हैं। यहां संपन्न घरानों के लोग निवास कर रहे। जबकि उन क्षेत्रों पर इसका असर उस तरह से नहीं है जहां लोग सघन आबादी और थोड़ा अभाव के बीच जीवन गुजार रहे। माइक्रो कंटेनमेंट जोन में जिन कॉलोनियों के नाम सामने आए हैं वह चौंकाने वाले हैं। इनमें अज्ञेय नगर, हेमू नगर, प्रियदर्शनी नगर, राजेंद्र नगर, महामाया विहार जैसी बड़ी कॉलोनियां शामिल हैं। जबकि सघन बस्तियां जरहाभाठा, मिनी बस्ती, चांटीडीह, तारबाहर समेत अन्य इलाकों पर इसका प्रभाव कम नजर आ रहा।

सरकार ने उन क्षेत्रों को माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किया है जहां कोरोना के मरीज बड़ी संख्या में निकल रहे। नियमों के हिसाब से जिस क्षेत्र में 7 या 10 के बीच कोविड-19 के मरीज निकलेंगे वह जोन माइक्रो कंटेनमेंट के रूप में तब्दील हो जाएगा। यहां वह सारी गतिविधियां बंद रहेंगी जो कोरोना के प्रोटोकाल को देखकर बनाई गई हैं।

लोगों के आने जाने पर प्रतिबंध। गाड़ियों की आवाजाही पर बंदिशें। मॉनिटरिंग के लिए अधिकारियों की नियुक्ति। निगरानी के लिए पुलिस की पेट्रोलिंग, बैरिकेडिंग सहित ऐसी व्यवस्थाएं, जिससे कोरोना संक्रमण से बचाव हो। बिलासपुर में ऐसी 26 कॉलोनियां हैं। जहां फिलहाल इस व्यवस्था को लागू किया जा रहा।

दूसरी तरफ इसकी परिधि के 3 किलोमीटर का दायरा बफर जोन बनाया गया है। यानी इन 26 इलाकों के आसपास तीन किलोमीटर का पूरा क्षेत्र बफर जोन है। जहां के लिए नियम कानून तैयार किए गए हैं। कॉलोनी और मोहल्लों की तुलना करने पर सामने आ रहा है कि कॉलोनियों में एक्टिव केस और मरीजों की संख्या ज्यादा है। जबकि छोटी गलियों या सघन आबादी वाले क्षेत्रों में इसकी संख्या कम है।

दस बड़े मोहल्ले-कॉलोनियों के एक्टिव केस
कंटेनमेंट जोन के रूप में तब्दील हो चुके हेमू नगर में कोरोना मरीजों की संख्या 15 पहुंच गई है। राजकिशोर नगर में 10, वैशाली नगर में 7, ओमनगर में 7, रिवर व्यू कॉलोनी में 7, मोपका क्षेत्र में 10, हाईकोर्ट क्षेत्र में 13, नवोदय विद्यालय में 6, दयालबंद में 9, डेंटल कॉलेज में 13, सीपत एनटीपीसी में 10 एक्टिव केस हैं। इसी तरह प्रियदर्शनी नगर, राजेंद्र नगर, महामाया विहार में मरीजों की संख्या 5 से अधिक है।
यहां भी मिल रहे मरीज
गुरुद्वारा रोड तखतपुर, अशोक विहार चांटीडीह, सरहद पारा, कृष्णा कुंज विद्या नगर, अपोलो हॉस्पिटल, नेचर सिटी उसलापुर, शांति नगर तिफरा, राजकिशोर नगर, यदुनंदन नगर, राजीव विहार, बंगाली पारा, दयालबंद, दुर्गा नगर लिगयाडीह, सदर बाजार, पर्ल हाइट्स लिंगियाडीह, दीनदयाल कॉलोनी, अमन विहार, रामा वेली, चकरभाठा, देवरीखुर्द, जेल लाईन, गीतांजली विहार, लोधीपारा, मंदिर चौक, वसंत विहार, मुंगेली नाका, आईजी ऑफिस, रेलवे जोन, समृद्धि विहार कोनी, सांई भूमि तोरवा, रामा वर्ल्ड, तारबहार, भारतीय नगर, दर्रीघाट, सिरगिट्‌टी, शुभम विहार, मोपका, कतियापारा, जोरापारा, हर्षा विहार, व्यापार विहार, कोटा, वैशाली नगर, मंगला चौक, अंबा पार्क सहित अन्य जगहों में संक्रमित मिल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...