पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आस्था पर कोरोना का असर:हिंदु नववर्ष पर शोभायात्रा नहीं निकलेगी, चेट्रीचंड महोत्सव भी घरों में

बिलासपुर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मंदिरों में नहीं, घरों में गूंजेंगे मां के जयकारे, चेट्रीचंड, गुड़ी पड़वा का उत्सव मनेगा, लेकिन घरों के अंदर ही

कोरोना का संक्रमण एक फिर तेजी से फैलने लगा है। शासन ने नाइट कर्फ्यू की घोषणा कर दी है। अब ऐसे में कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए मंदिरों को बंद करने का सिलसिला जारी हो गया है। मंदिर में भी भगवान की पूजा-अर्चना के लिए खुलेंगे। उस दौरान ही मंदिर में भक्तों को एक-एक कर दर्शन मिल रहा है।

वहीं गुरुद्वारों में लंगर नहीं बरता जाएगा। चर्च में प्रभु यीशु की ऑनलाइन प्रार्थना की जा रही है। रतनपुर स्थित महामाया मंदिर में भक्तों के दर्शन के लिए समय तय कर दिया गया है। शहर के वेंकटेश मंदिर, घोंघा बाबा परिसर स्थित सभी मंदिर, रामकृष्ण मंदिर हेमूनगर, तिलक नगर स्थित श्रीराम मंदिर सहित अन्य कई मंदिरों के गर्भगृह में भक्तों का प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया। प्रतिदिन होने वाली पूजा पुजारियों द्वारा की जा रही है। अब ऐसे में अप्रैल में त्योहार ही त्योहार हैं। संक्रमण के चलते त्योहार भी सिमट रहे हैं। सभी समाज के लोग अपने-अपने समाज से त्योहारों को घरों में मनाने कह रहे हैं। साथ ही समाज के लोगों द्वारा त्योहारों पर निकालने वाली शोभायात्रा और महोत्सव भी स्थगित कर रहे हैं। हिंदु नववर्ष पर निकलने वाली शोभायात्रा स्थगित कर दी गई है।

समिति ने शोभायात्रा को लेकर लिया निर्णय
शहर में बढ़ते वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण को देखते हुए हिंदू नववर्ष आयोजन समिति बिलासपुर ने शोभायात्रा को स्थगित कर दिया है। हिंदू नववर्ष आयोजन समिति हर वर्ष की भांति चैत्र नवरात्रि के प्रथम दिवस हिंदू नववर्ष में भव्य शोभायात्रा निकालती है और नववर्ष बड़े ही धूमधाम से मनाते आ रहे हैं। अब ऐसे में समिति के लोगों ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया है कि इस वर्ष शोभायात्रा स्थगित की जाती हैं।

झूलेलाल की आरती इस बार भी घरों पर ही होगी
पूज्य सिंधी सेंट्रल पंचायत के पदाधिकारियों ने सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया कि वर्तमान में कोविड के बढ़ते प्रकोप की वजह से हर वर्ष आयोजित होने वाला चेट्रीचंड महोत्सव सादगी से अपने-अपने घरों पर मनाया जाएगा। इष्ट देव साईं झूलेलाल की आरती-पूजा पूरी श्रद्धा के साथ घरों पर ही करने का निर्णय लिया गया। साथ ही बैठक में शोभायात्रा व अन्य आयोजन जिसमें भीड़ हो सकती है, को स्थगित करने का निर्णय लिया गया।

तेलुगू समाज के लोग आंगन में ही बनाएंगे रंगोली
तेलुगू समाज के लोगों ने संक्रमण के कारण घरों में ही रहकर पर्व मनाने का निर्णय लिया है। समाज के लोगों से कहा है कि वे आंगन मे रंगोली बनाकर घर के द्वार पर आम के पत्तों और फूलों का तोरण लगाएं। तेलुगू समाज के लोगों ने घर पर ही ग्राम देवता की भी पूजा-अर्चना भी करें।

नवरात्रि, रमजान, रामनवमी और हनुमान जयंती इसी महीने
नवरात्रि 13 अप्रैल से प्रारंभ हो रही है। इस दिन से हिंदू नववर्ष शुरू हाेगा। गुड़ी पड़वा और उगादी पर्व भी मनाया जाएगा। दुर्गाष्टमी 20 अप्रैल को और रामनवमी 21 को है। शुक्रवार 23 अप्रैल को श्रीकामदा एकादशी है। शनि प्रदोष व वामन द्वादशी 24 अप्रैल को है। 27 अप्रैल को हनुमान जयंती मनेगी। इसके साथ ही इस माह 4 को ईस्टर, 14 को अंबेडकर जयंती और 14-15 से रमजान शरीफ शुरू होगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने के लिए प्रयासरत रहेंगे। घर में किसी नवीन वस्तु की खरीदारी भी संभव है। किसी संबंधी की परेशानी में उसकी सहायता करना आपको खुशी प्रदान करेगा। नेगेटिव- नक...

    और पढ़ें