ट्रेलर की टक्कर से युवक की मौत:एक ही बाइक पर सवार थे 3 लोग, 2 घायल; गुस्साए लोगों ने 3 घंटे लगाया जाम

बिलासपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
तेज रफ्तार ट्रेलर की टक्कर से घायल युवक। - Dainik Bhaskar
तेज रफ्तार ट्रेलर की टक्कर से घायल युवक।

बिलासपुर में गुरुवार शाम तेज रफ्तार ट्रेलर ने बाइक सवार तीन युवकों को टक्कर मार दी। इस हादसे में एक युवक की मौके पर ही मौत हो। घटना में बाइक उसका भाई घायल हो गया। एक अन्य रिश्तेदार को मामूली चोटें आई। हादसे के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने चक्काजाम कर दिया। इसके चलते तीन घंटे तक आवागमन बाधित रहा। हादसा मस्तूरी थाना क्षेत्र में हुआ।

जानकारी के अनुसार गतौरा निवासी फ्रेंडीकांत उसका भाई ऋषि कांत अपने एक रिश्तेदार के साथ बाइक में सवार होकर निकले थे। तीनों किसी काम से जा रहे थे। घटना करीब 5.30 बजे की है। अभी तीनों अपने घर से महज 100 मीटर दूर मेन रोड पर पहुंचे थे। उसी समय सामने से तेज रफ्तार ट्रेलर चालक ने उनकी बाइक को चपेट में ले लिया। हादसे में फ्रेंडीकांत की मौके पर ही मौत हो गई।

युवक की मौत के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने चक्काजाम कर दिया।
युवक की मौत के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने चक्काजाम कर दिया।

घायल को इलाज के लिए भेजा CIMS
इस हादसे के बाद वहां आसपास के ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। उन्होंने आनन-फानन में घायल ऋषिकांत को इलाज के लिए के CIMS भेजा। इस घटना में उनके एक रिश्तेदार को मामूली चोंटें आई। जब तक पुलिस वहां पहुंची, घायल को अस्पताल भेज दिया गया था।

शव रखकर किया चक्काजाम
हादसे के बाद आरोपी चालक ट्रेलर छोड़कर भाग निकला। नाराज ग्रामीणों ने भारी वाहनों को रोक दिया और चक्काजाम कर दिया। गुस्साए ग्रामीण शराब दुकान को मेन रोड से हटाने की मांग के साथ ही भारी वाहनों की आवाजाही व रफ्तार पर लगाम लगाने की मांग पर अड़े रहे। इस दौरान ग्रामीणों ने पुलिस को शव उठवाने से भी रोक दिया। ग्रामीणों का कहना है कि इस रोड पर दिन रात भारी वाहन गुजरते हैं। जिसके कारण हादसे होते रहते हैं।

चक्काजाम के दौरान तीन घंटे तक पड़ी रही युवक की लाश।
चक्काजाम के दौरान तीन घंटे तक पड़ी रही युवक की लाश।

मुआवजा राशि देने पर शांत हुआ मामला
चक्काजाम की सूचना तहसीलदार अतुल वैष्णव को दी गई। जब वे मौके पर पहुंचे, तो ग्रामीण मुआवजा राशि दिलाने की मांग करने लगे। उन्होंने ग्रामीणों को शांत कराया और परिवार वालों को 25 हजार रुपए आर्थिक सहायता राशि दी। साथ ही वाहनों की रफ्तार कम करने के लिए पुलिस को कार्रवाई करने के निर्देश दिए। इसके बाद चक्काजाम समाप्त हुआ।

पुलिस के रवैए से भड़का आक्रोश
इस हादसे के बाद मौके पर पहुंची पुलिस के रवैए को देखकर ग्रामीणों का गुस्सा भड़क गया। दरअसल, पुलिस शव को उठवाकर अस्पताल भेजने की बात कह रही थी। जबकि, ग्रामीण जिम्मेदार अफसरों को बुलाने की मांग पर अड़े थे। ग्रामीणों की भीड़ व चक्काजाम को देखकर थानेदार अचानक तैस में आ गए। जिससे ग्रामीणों का गुस्सा भड़क गया। इसके बाद ग्रामीण प्रशासनिक अधिकारी को बुलाने की मांग पर अड़ गए और शव रखकर हंगामा करने लगे।

खबरें और भी हैं...