बिलासपुर में विभागों के झगड़े के फंसा विकास:8 माह में नहीं बनी तीन किमी सड़क, निरीक्षण पर निकले कलेक्टर तो अफसरों ने बताई समस्याएं

बिलासपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुरुनानक चौक से तोरवा तक बन रहे फोर लेन का कलेक्टर ने जायजा लिया। - Dainik Bhaskar
गुरुनानक चौक से तोरवा तक बन रहे फोर लेन का कलेक्टर ने जायजा लिया।

बिलासपुर में नेशनल हाइवे की सड़क पिछले 8 माह से नहीं बन पाई है। दरअसल, PWD और नगर निगम में आपसी तालमेल नहीं होने के चलते निर्माण कार्य अटका हुआ है। गुरुवार को निर्माण कार्यों का निरीक्षण पर निकले कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने धीमी गति पर नाराजगी जताई, तब अफसरों ने निर्माण कार्य में आने वाली बाधाएं गिना दी और सीवरेज के गड्‌ढों को दिखाया, जिसके चलते निर्माण काम अटका हुआ है। इस दौरान कलेक्टर ने अरपा में बन रहे बैराज का भी जायजा लिया और जून तक काम पूरा करने कहा। कलेक्टर ने PWD की ओर से नेशनल हाईवे क्रमांक 49 में तोरवा में गुरूनानक चौक से जगमल चौक तक 5 करोड़ 25 लाख 66 हजार की लागत से 1 किलोमीटर लंबाई में फोरलेन चौड़ीकरण एवं डामरीकरण के कार्य का निरीक्षण किया। इस कार्य में पेयजल आपूर्ति के लिए बनाई गई पाइप लाइन बीच में आने से काम प्रभावित हो रहा था। कलेक्टर ने यहां कार्य की धीमी गति पर गहरी नाराजगी जताई। मौके पर उपस्थित नगर निगम एवं PWD के अधिकारियों एवं तकनीकी कर्मचारियों ने कलेक्टर को कार्य में आने वाली बाधाओं की जानकारी दी। मौके पर ही दोनों विभाग के बीच समन्वय को लेकर आ रही दिक्कतों का निराकरण किया गया। कलेक्टर ने काम को पूरी गुणवत्ता के साथ जल्द पूरा करने के निर्देश दिए।

सड़क चौड़ीकरण के दौरान सीवरेज के गड्‌ढों को देखकर कलेक्टर भी हैरान रह गए।
सड़क चौड़ीकरण के दौरान सीवरेज के गड्‌ढों को देखकर कलेक्टर भी हैरान रह गए।

पचरी घाट और शिव घाट बैराज का भी लिया जायजा
इस दौरान कलेक्टर ने पचरी घाट एवं शिव घाट में बन रहे बैराज का भी निरीक्षण किया। मौके पर जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने कलेक्टर को जानकारी दी निर्माण का तेजी से कराया जा रहा है। 100 करोड़ की लागत से यह दोनों बैराज तैयार किया जा रहा है। कलेक्टर ने जून 2022 तक बैराज का काम हर हाल में पूर्ण करने के निर्देश दिए। इस दौरान ड्रैनेज पाइप लाइन के संबंध में आ रही दिक्कतों का मौके पर ही निराकरण किया। कलेक्टर ने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों से कहा कि कार्य की गुणवत्ता में किसी भी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा।
पहले आंदोलन और अब समन्वय का अभाव
बताया जा रहा है कि गुरुनानक चौक से तोरवा तक सड़क चौड़ीकरण के दौरान 54 पेड़ों की कटाई की गई। इसका विरोध करते हुए पर्यावरण प्रेमियों ने एक माह तक प्रदर्शन किया। इसके चलते निर्माण कार्य शुरू नहीं हो सका। बाद में जब निर्माण कार्य शुरू हुआ, तब नगर निगम की पाइप लाइन टूटने के कारण समस्या होने लगी। इस दौरान नगर निगम और PWD के अफसरों में समन्वय के अभाव में निर्माण कार्य में रुकावटें आई।

अरपा नदी में बन रहे बैराज का भी कलेक्टर ने निरीक्षण किया।
अरपा नदी में बन रहे बैराज का भी कलेक्टर ने निरीक्षण किया।

गड्‌ढा देखकर हैरान रह गए कलेक्टर
निरीक्षण के दौरान कलेक्टर मित्तर ने जगमल चौक में निर्माण कार्य के दौरान सीवरेज के गड्‌ढों को देखा। जिसे देखकर उन्होंने हैरानी जताई। PWD के अफसरों ने बताया कि सीवरेज के इस तरह के गड्‌ढों के चलते निर्माण कार्य में विलंब हो रहा है। कलेक्टर ने नगर निगम के अधिकारियों पर भी जमकर नाराजगी जताई।

खबरें और भी हैं...