मेहमान बनकर आया और ठग लिए 3 लाख रुपए:CBI अफसर और 5वीं पीढ़ी का भाई बताया, खातिरदारी कराई;राष्ट्रपति भवन में दिया नौकरी का झांसा

बिलासपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चार दिन घर में रहकर कराता रहा खातिरदारी। - Dainik Bhaskar
चार दिन घर में रहकर कराता रहा खातिरदारी।

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में एक शातिर ठग ने खुद की मेहमान नवाजी कराकर किसान को ठग लिया। शातिर ने पहले खुद को किसान की पांचवी पीढ़ी का भाई बताया। यह भी कहा कि वह दिल्ली में CBI में IG है।किसान को भरोसे में लेकर रायपुर एयरपोर्ट लेने के लिए बुलाया। चार दिन तक उसके घर में रहकर खातिरदारी कराई। फिर राष्ट्रपति भवन में नौकरी दिलाने के नाम पर तीन लाख रुपए भी ले लिए। जब किसान उत्तर प्रदेश में अपने पैतृक गांव पहुंचा तब उसे ठगी का पता चला। मामला कोटा थाना क्षेत्र का है।

जानकारी के अनुसार बेलगहना के गंगानगर निवासी दीपक कुशवाहा पेशे किसान हैं। चार महीने पहले उनके मोबाइल पर अनजान नंबर से कॉल आया। कॉल करने वाले ने खुद को CBI में IG सर्वेश कुशवाहा बताया। साथ ही राष्ट्रपति भवन में पदस्थ होने की जानकारी दी। बातचीत के दौरान उसने खुद को दीपक के ही परिवार का बताया और उसकी पांचवी पीढ़ी का भाई होने का दावा किया। इसके बाद से दोनों के बीच बातचीत होने लगी।

छत्तीसगढ़ आकर परिवार से मिलना चाहता है
कथित IG सर्वेश कुशवाहा ने बातचीत होने के तीसरे ही दिन बोला कि वह छत्तीसगढ़ आ रहा है और उसके परिवार से मिलना चाहता है। उसने दीपक को लेने के लिए रायपुर एयरपोर्ट बुलाया। दीपक भी उसके भरोसे में आकर उसे लेने के लिए रायपुर चला गया। वहां से सर्वेश को लेकर दीपक अपने घर बेलगहना आ गया। यहां चार दिन तक कथित IG सर्वेश कुशवाहा ने उसके घर परिवार में खातिरदारी कराई। फिर घर आकर घुल मिलकर रहने के बाद सर्वेश कुशवाहा सतना जाने की बात कहने लगा।

ऑनलाइन जमा कराया तीन लाख 35 हजार रुपए
चार दिन बाद किसान उसे बिलासपुर स्टेशन छोड़ने आया। इस दौरान सर्वेश ने दीपक को झांसा दिया कि परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक है। ऐसे में वह दीपक की नौकरी राष्ट्रपति भवन में लगवा देगा। इसके लिए उसे कुछ रुपए खर्च करने की बात कही, तब दीपक तैयार हो गया। उसके जाने के बाद दीपक ने 11 फरवरी को सर्वेश के बताए खाते में 25 हजार रुपए जमा किया। इसी तरह से अलग-अलग बहाने से उसने तीन लाख 35 हजार जमा रुपए जमा करा लिए।

पैतृक गांव जाने पर खुला ठगी का राज
सर्वेश कुशवाहा से बातचीत के दौरान दीपक ने उसे बताया था कि उसका मूल गांव उत्तर प्रदेश में है। उसने बताया था कि उसका परिवार घाटमपुर जिले के सरीगांव से हैं। तब सर्वेश ने भी उसी गांव और परिवार के होने की जानकारी दी थी। रुपए देने के बाद नौकरी नहीं मिली, तब दीपक उत्तर प्रदेश स्थित अपने गांव पहुंचा। वहां सर्वेश के संबंध में जानकारी जुटाई, तब उसे पता चला कि सर्वेश 10वीं कक्षा तक पढ़ने के बाद गांव से बाहर रहता है। ठगी का मामला सामने आने के बाद उसने पुलिस से शिकायत दर्ज कराई है।

खबरें और भी हैं...