पेंड्रीडीह-सकरी बाइपास:7 जुलाई से शुरू होना था ट्रैफिक, अभी एप्रोच रोड पर हो रही ढलाई, रिटेनिंग वॉल बना रहे

बिलासपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पेंड्रीडीह मोड़ जहा पर चल रहा है कांक्रीटीकरण का काम। - Dainik Bhaskar
पेंड्रीडीह मोड़ जहा पर चल रहा है कांक्रीटीकरण का काम।

पेंड्रीडीह- सकरी बाइपास से आवागमन अब तक शुरू नहीं हो सका है, जबकि एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर ने बाकायदा शपथ पत्र के साथ 7 जुलाई से ट्रैफिक शुरू होने का दावा किया था। जबकि एप्रोच रोड पर कांक्रीट की ढलाई और रिटेनिंग वॉल का काम चल रहा है, इस वजह से अब तक यातायात शुरू नहीं हो सका है।

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने हाईकोर्ट में हाईकोर्ट में 29 जून को शपथ पत्र प्रस्तुत कर पेंड्रीडीह ओवरब्रिज का निर्माण पूरा होने की जानकारी देते हुए 7 जुलाई तक यातायात शुरू होने का दावा किया था। जबकि मौके पर रायपुर की तरफ से आने पर अब भी ओवरब्रिज का काम अधूरा है। एप्रोच रोड पर ढलाई और रिटेनिंग वॉल का काम चल रहा है। अब इस मामले पर 18 जुलाई को सुनवाई होनी है।

हाईकोर्ट ने प्रदेशभर की बदहाल सड़कों को लेकर स्वत: संज्ञान लेकर जनहित याचिका पर सुनवाई शुरू की। साथ ही न्यायमित्रों की नियुक्ति करते हुए प्रदेश की जर्जर सड़कों की सूची मांगी। न्यायमित्रों ने प्रदेश की 32 सड़कों के जर्जर होने की जानकारी दी। हाईकोर्ट ने संबंधित सड़कों के लिए जिम्मेदार एजेंसी एनएचएआई, एनएच, पीडब्ल्यूडी, नगरीय निकाय, नगर निगम को सुधार के निर्देश दिए।

सुनवाई के दौरान क्रम में ही तिफरा फ्लाईओवर और पेंड्रीडीह ओवरब्रिज के अधूरे होने और इससे हो रही परेशानियों का मुद्दा उठा। हाईकोर्ट की लगातार निगरानी और निर्देश के बाद तिफरा फ्लाईओवर का काम नगरीय प्रशासन विभाग ने पूरा कर चालू करा दिया। लेकिन, पेंड्रीडीह ओवरब्रिज को लेकर एनएचएआई ने हाईकोर्ट में झूठी जानकारी दी।

प्रदेश में सड़कों की खराब स्थिति पर जनहित याचिका

18 जुलाई को होगी मामले की सुनवाई

पेंड्रीडीह और सेंदरी मोड पर जंक्शन बनाए जाने को लेकर सुनवाई चल रही है। जो 18 जुलाई को होनी है। प्रोजेक्ट की बात करें तो पेंड्रीडीह से पथरापाली तक 52 किलोमीटर लंबी सड़क 1261 करोड़ की लागत से बनाई जा रही है, जिसे मार्च 2020 में पूरा हो जाना था। कई बार डेटलाइन बढ़ाने के बाद भी काम अब तक अधूरा है। नई डेटलाइन के अनुसार भी जून 2022 तक काम पूरा होना था। दो सप्ताह अधिक होने के बाद भी काम कई जगह अधूरा है।

मार्च में किया था पूरा होने का दावा, जुलाई तक अधूरा

एनएचएआई ने पहले पेंड्रीडीह बाइपास के काम को 31 मार्च तक पूरा करने की जानकारी दी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। इसके बाद कहा कि मई तक काम पूरा हो जाएगा, लेकिन इस अवधि में भी काम पूरा नहीं हो सका। हाईकोर्ट ने नाराजगी जाहिर करते हुए एनएचएआई के अधिकारियों को 15 जून को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने को कहा। इस दिन सुनवाई के दौरान शपथ पत्र प्रस्तुत करने को कहा।

29 जून को कहा था- 7 जुलाई तक पूरा हो जाएगा काम

29 जून को सुनवाई के दौरान अधिकारियों ने काम में देरी के लिए माफी मांगते हुए बताया था कि ओवरब्रिज का निर्माण पूरा हो गया है। 7 जुलाई तक यातायात शुरू हो जाएगा, जबकि यह एप्रोच रोड पर ढलाई और रिटेनिंग वॉल का काम चल रहा है, इस कारण पेंड्रीडीह बाइपास से वाहनों का आना जाना नहीं हो रहा।

खबरें और भी हैं...