अंतरराज्यीय साइबर अपराध सरगना मप्र के बीहड़ में पकड़ाया:दिव्यांग को लाॅटरी का झांसा देकर चार लाख ठगने वाले दो गिरफ्तार

बिलासपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

दिव्यांग को फोन कर 25 लाख रुपए इनाम का झांसा देकर 4 लाख की ठगी करने वाले दो साइबर अपराधी को हिर्री पुलिस ने मध्यप्रदेश से गिरफ्तार किया। उनके कब्जे से मोबाइल, सिम, कम्प्यूटर सिस्टम, प्रिंटर जब्त किया गया। ठगों के खातों में जमा करीब 7 लाख रुपए पुलिस ने सीज किया। 23 अगस्त 2020 को हिर्री थाने में ग्राम अमसेना निवासी दिव्यांग सरजूदास मानिकपुरी 40 वर्ष ने ठगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उसे 25 लाख रुपए लाॅटरी लगने का झांसा देकर फोन करने वाले ने 4.18 लाख रुपए ठगे थे।

यह पैसा उन्होंने अपने बैंक खाते में जमा कराए थे। एसपी दीपक कुमार झा के निर्देश पर पुलिस ने जांच शुरू की। उनका लोकेशन ट्रेस कर साइबर अपराधियों को पकड़ने झांसी रवाना किया गया। पीड़ित को आरोपियों से उनके मोबाइल पर बातचीत करने के लिए कहा। इस बीच उनकी लोकेशन ट्रेस होती रही। पुलिस के कहने पर पीड़ित ने ठगों से पैसा डालने के लिए उनका खाता नंबर मांगा और वे झांसे में आ गए और जानकारी दी। पुलिस ने इसमें 5 हजार रुपए डाले। इसके आधार पर आरोपी अंकुश सिंह यादव 21 वर्ष व योगेद्र अहिरवार 21 वर्ष के बारे में पता चला। दोनों मध्यप्रदेश के ग्राम नौरा के रहने वाले निकले। यह टेहरका थाना क्षेत्र में है। पुलिस ने वहां की पुलिस से संपर्क किया तो पता चला पूरा साइबर अपराध में जुड़ा हुआ है और पुलिस जब वहां पहुंचती है तो उन्हें हिंसक तरीके से खदेड़ देते हैं।

पुलिस ने थाना टेहरका के स्टाफ की मदद ली और गांव में जाकर दबिश दी। यहां से आरोपियों को हिरासत में ले लिया गया। उनके कब्जे से मोबाइल, सिम, कंप्यूटर बरामद किए गए। एएसपी ग्रामीण रोहित झा के अनुसार उनसे पूछताछ जारी है। अब तक उनके 10 अलग-अलग बैंको में 15 खाते होने का पता चला है। इसमें 2 साल के भीतर आरोपी अंकुश के 5 खाते में करीब 1.21 करोड़ का लेनदेन हुआ है। वहीं योगेंद्र के 2 खातों से 8.5 लाख का ट्रांजेक्शन होना पाया गया। प्रकरण को सुलझाने में हिर्री टीआई एन शांत कुमार साहू, एसआई शीतला त्रिपाठी, कांस्टेबल वीरेंद्र साहू, प्रशांत महिलांगे, कृष्णा कपूर व साइबर सेल से दीपक व विकास राम की भूमिका रही।

खबरें और भी हैं...