संदिग्ध मौत:अवैध शराब बेचने के आरोप में दो दिन पहले गया था जेल

बिलासपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आबकारी विभाग ने दो दिन पहले मस्तूरी क्षेत्र के जिस युवक को अवैध शराब बेचने के आरोप में पकड़ा था, उसकी जेल में संदिग्ध परिस्थतियों में मौत हो गई। उसके परिजनों ने आबकारी विभाग पर गलत कार्रवाई करने का आरोप लगाया है। शव अभी तक मरच्यूरी में पड़ा है।

परिजन लेने नहीं पहुंचे है। मस्तूरी के ग्राम चिल्हाटी थाना पचपेड़ी निवासी छोटेलाल यादव पिता चैनु यादव (35) को आबकारी विभाग ने एक दिन पहले ही 20 लीटर महुआ शराब के साथ गिरफ्तार कर आबकारी अधिनियम की धारा के तहत जेल भेजा था। शुक्रवार की रात उसे गंभीर हालत में सिम्स लाया गया था। यहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना सिविल लाइन पुलिस को दी गई। पुलिस ने मर्ग कायम कर शव को सिम्स के मरच्यूरी में रखवा दिया है। परिजनों को शाम को सूचना मिली।

उनका कहना है कि आबकारी विभाग के कर्मचारी छोटेलाल को घर से बिना शराब के ही पकड़कर ले गए थे। बाद में पता चला कि उसके नाम पर 20 लीटर महुआ शराब की जब्ती बनाई गई। उसे चालान कर दिया गया था। उन्होंने जेल में हुई मौत पर संदेह व्यक्त किया है। अभी तक शव लेने कोई नहीं पहुंचा है। आबकारी विभाग ने इस कार्रवाई में प्रेस विज्ञप्ति जारी की थी। कार्रवाई करने वाली टीम में आबकारी एएसआई आनंद वर्मा, रमेश दुबे के साथ स्टाफ के रामस्नेही यादव, राजेश पांडे, गणेश धीरज तथा वाहन चालक जलेश्वर शामिल थे। पंचनामा के बाद ही पीएम होगा फिर मौत के असली कारणों का पता चलेगा।

खबरें और भी हैं...