नदी के किनारे रहने वाले सैकड़ों घरों में घुसा पानी:बूटापारा में घुसा पानी, 22 लोग रातभर मंदिर में फंसे रहे, सुबह सुरक्षित निकाला

बिलासपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भैंसाझार बैराज के 7 गेट खुलने से अरपा का जलस्तर बढ़ा।  रेस्क्यू में जुटा रहा निगम अमला। - Dainik Bhaskar
भैंसाझार बैराज के 7 गेट खुलने से अरपा का जलस्तर बढ़ा। रेस्क्यू में जुटा रहा निगम अमला।
  • पानी नीचे उतरने के बाद शनिचरी रपटा को चालू करने सफाई शुरू

बुधवार की रात बूटापारा में बाढ़ के दौरान 3 परिवारों के फंसे होने की सूचना पर महापौर रामशरण यादव ने कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर को फोन कर सूचना दी। इसके बाद नगर सेना के जवानों ने वार्ड क्रमांक 43 के बूटापारा क्षेत्र में खोजबीन शुरू की तो पता चला कि प्रभावित परिवारों की संख्या अधिक है।

उन्हें रेस्क्यू करने की कोशिश की गई लेकिन रात में अरपा की बाढ़ के चलते बस्ती में घुसे पानी का बहाव काफी तेज होने के कारण परेशानी हुई। गुरुवार को सुबह 5 बजे नगर सेना के जवान बोट के जरिए उन परिवारोंं तक पहुंचे तो पता चला की वहां 3 नहीं 5 परिवार के 22 लोग फंसे हैं। ये लोग बजरंगबली मंदिर जो बाढ़ में डूबने से बच गया था, वहां रात भर बैठे रहे। सुबह 6 बजे तक सभी 22 लोगों को सुरक्षित रेस्क्यू कर लिया गया। क्षेत्र में रातभर बिजली बंद रही, जिससे परेशानी हुई। बता दें कि अरपा भैंसाझार बैराज के 7 गेट खुलने के बाद शहर में अरपा नदी का जलस्तर बढ़ गया था जिसके चलते निचली बस्ती में पानी घुसने लगा। जिनके घरों में पानी घुस गया था, उन्हें स्कूलों और सामुदायिक भवनों में ठहराया। 1700 प्रभावितों को भोजन वितरण किया गया।

मांडवा बस्ती से पानी निकला
महापौर यादव ने गुरुवार को भी इन क्षेत्रों का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि अरपा का जलस्तर अब घटने लगा है। बुधवार की रात तक शनिचरी रपटा के दो फीट ऊपर तक नदी का पानी बह रहा था तथा रपटा नजर नहीं आ रहा था। अब रपटा दोबारा दिखाई देने लगा है। निगम अमला पानी नीचे उतरने के बाद पुल को दोबारा शुरू करने उसकी साफ सफाई में जुटा हुआ है। वहीं मांडवा बस्ती में भी हालात तेजी से सामान्य होने लगे हैं। लोगों के घरों से पानी पूरी तरह निकल चुका है। दोपहर 1 बजे तक बस्ती में निगम के 4 टैंकरों के साथ-साथ खाने के पैकेट लोगों को वितरित किए गए।

तेज बारिश से दीवार ढही, दबने से बुजुर्ग महिला की मौत
बारिश के चलते दीवार ढहने से बुजुर्ग महिला की मौत हो गई। घटना बेलगहना क्षेत्र की है। केंदा के पास ग्राम नेवारी बहरा निवासी इतवरिया बाई पति नोहरसाय यादव 70 वर्ष मिट्टी के घर में रहती थी। बारिश के कारण उसका मकान ढह गया। दीवार भरभरा के गिर पड़ी और महिला दब गई। हादसे में उसकी मौके पर ही मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...