पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ग्राउंड रिपोर्ट:कई जर्जर टंकियों से शहर में हो रही पानी सप्लाई, संक्रमण के साथ जान का खतरा

बिलासपुर18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पानी टंकी का पाइप खराब हो गया है, कोनी थाना के पास की पानी टंकी जर्जर हो गई है। - Dainik Bhaskar
पानी टंकी का पाइप खराब हो गया है, कोनी थाना के पास की पानी टंकी जर्जर हो गई है।
  • निगम में शामिल पंचायतों के हजारों लोग पीने के पानी के लिए तरस रहे

नगर निगम में 15 ग्राम पंचायतों को शामिल हुए दो साल बीत गए, परंतु लीकेज और जर्जर टंकियों, जंग लगे टूटे फूटे पाइप लाइन से पानी लेने की मजबूरी खत्म नहीं हुई। जिन परिस्थितियों में पानी सप्लाई हो रही है, उससे संक्रमण की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। संक्रमण से ज्यादा जर्जर टंकियों के धराशायी होने का खतरा बड़ा है।

‘दैनिक भास्कर’ ने दो पानी टंकियों का जायजा लिया। इनकी हालत बहुत खराब है। बार बार रिपेयरिंग कराने के बावजूद न तो लीकेज दूर हुआ और न ही खतरा टला। राज्य सरकार के बजट में मार्च महीने में पंचायत क्षेत्रों में पेयजल की व्यवस्था के लिए 20.22 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया। बजट घोषणा अब तक झुनझुना साबित हुई। स्वीकृति का मामला पांच महीने से अटका हुआ है और अब केंद्र सरकार की नई ‘जल जीवन मिशन’ योजना के लिए नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग ने प्रस्ताव मंगाया है। अभी तक यह तय नहीं हो पाया है कि आखिर नगर निगम एरिया में पीने के पानी की व्यवस्था के लिए किस योजना से कब तक पैसे मिलेंगे? । बता दें कि जर्जर पानी टंकियों के स्थान पर नई पानी टंकियों के निर्माण का प्रस्ताव संशोधित हो चुका है। पहली बार 10 पानी टंकियों का प्रस्ताव था। अबकि उनकी संख्या बढ़ाकर 26 कर दी गई है।

जानिए 59 करोड़ के डीपीआर में कहां क्या होगा
पंचायत क्षेत्रों में पीने के पानी की व्यवस्था करने के लिए नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग द्वारा नियुक्त कंसल्टेंट पिल्लीवार ने जो डीपीआर तैयार किया है, उसमें 59.6 करोड़ का प्रस्ताव है। इसके अंतर्गत 16 ग्राम पंचायतों में 75 केएल से 300 केएल की 28 पानी टंकियों का निर्माण किया जाना है। वहीं 264.72 किलोमीटर नई पाइप लाइन बिछाई जाएगी। डीपीआर का सत्यापन कराया जा रहा है।

राजकिशोर नगर व कोनी की टंकी ऐसी कि जाने कब ढह जाए...
राजकिशोर नगर फेस 2 की टंकी के पाइप लाइन में लीकेज की समस्या महीनों से चल रही है। टंकी से सीपेज हो रहा है। पार्षद संध्या तिवारी ने बताया कि 3 लाख लीटर की क्षमतावाली इस टंकी से एमआईजी, एलआईजी एवं सूरजमुखी के सैकड़ों मकानों में सप्लाई होती है। उन्होंने कहा कि पानी में संक्रमण का खतरा हो न हो, टंकी की जर्जर हालत देख कर कोई भी इसके धराशायी होने का अनुमान लगा सकता है।

वार्ड क्रमांक 68 रामकृष्ण परमहंस नगर की पार्षद योगिता आऩंद श्रीवास के मुताबिक 1 लाख लीटर क्षमता की कोनी पानी टंकी की कई बार रिपेयरिंग हो चुकी है। जर्जर टंकी से जान को खतरा है। बाजू में प्राथमिक स्कूल है। नई टंकी के निर्माण के लिए इस्टीमेट तैयार होने की बात कही गई है। इधर तारबाहर में पेयजल संकट झेल रहे लोगों को नई पानी टंकी से सप्लाई का आश्वासन देकर उनसे तारबाहर चौक पर चक्का जाम रुकवा दिया गया, परंतु 3 माह बाद भी सप्लाई की स्थिति नहीं बन पाई है।

सीधी बात; अजय श्रीवासन, ईईकेंद्र को भेजा जाएगा प्रस्ताव

20.22 करोड़ का बजट प्रावधान पेयजल के लिए किया गया, परंतु पैसे नहीं मिले? काम कब होगा?
-कंसल्टेंट ने जो डीपीआर दिया है, उसमें 59.6 करोड़ का प्रावधान है। केंद्र सरकार की नई जल जीवन मिशन योजना के लिए इसे भेजा गया है। केंद्र से स्वीकृति के बाद काम होगा।

कागजी कार्यवाही लंबे समय से चल रही है, बजट प्रावधान के पैसे मिलेंगे या नहीं...?
-नगरीय निकाय ने पेयजल की योजना के बारे में जानकारी मंगाई है, सारे काम शासन से निर्धारित होंगे।

खबरें और भी हैं...