पत्थर से कुचलकर फुफेरे भाई की हत्या:2 घंटे सड़क पर पड़ा रहा शव;पत्नी की हत्या में 17 साल बाद जेल से छूटा था आरोपी

बिलासपुर7 महीने पहले

छत्तीसगढ़ में बिलासपुर के सरकंडा इलाके में 24 घंटे के दौरान फिर सोमवार एक हत्या हो गई। अब सोमवार रात युवक ने अपने फुफेरे भाई को मार दिया। दोनों शराब के नशे में थे। इसी दौरान उनके बीच किसी बात को लेकर विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ा कि बड़े भाई ने छोटे भाई के सिर को पत्थर से कुचल दिया। वारदात के बाद आरोपी भाई भा गया। दो घंटे तक युवक की खून से लथपथ लाश वहीं पड़ी रही।

जानकारी के अनुसार, चिंगरापारा निवासी प्रकाश ठाकुर (26) बोल और सुन नहीं सकता था। पड़ोस में ही उसके मामा का लड़का प्रदीप ठाकुर रहता था। दोनों एक साथ रहते थे और आदतन शराबी थे। बताया जा रहा है कि सोमवार रात भी दोनों शराब के नशे में थे। इस दौरान रात करीब 11 बजे किसी बात को लेकर विवाद हो गया। झगड़ा इतना बढ़ गया कि प्रदीप ने घर में रखे पत्थर से प्रकाश का सिर कुचल दिया।

हत्या की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंच गई CSP स्नेहिल साहू।
हत्या की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंच गई CSP स्नेहिल साहू।

रात भर पड़ी रही खून से लथपथ लाश
इस वारदात के बाद आसपास के लोगों ने डायल 112 के साथ ही सरकंडा थाने में सूचना दी। सूचना के दो घंटे के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। इसके चलते खून से लथपथ लाश घर के बाहर पड़ी रही। स्थिति यह थी पूरे गली में खून बह गया था। हालांकि, बारिश होने के बाद सब धुल गया। पुलिस ने शव को कपड़े से ढंकवा दिया। इस दौरान शव पूरी रात घर के बाहर गली में ही पड़ी रही।

मौके पर पहुंची CSP, तब आरोपी ने किया सरेंडर
इस घटना के बाद लाश को छोड़कर पुलिस कर्मी आरोपी प्रदीप की तलाश में जुट गए। वह घटना के बाद से फरार हो गया। घटना की जानकारी मिलते ही CSP स्नेहिल साहू, TI उत्तम साहू मौके पर पहुंच गए। उन्होंने हत्यारे युवक की जानकारी जुटाई और उसकी तलाश करने के निर्देश दिए। इसके कुछ देर बाद ही आरोपी प्रदीप ने सरेंडर कर भी कर दिया। पुलिस उसे गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है।

देर रात हत्या की वारदात के बाद पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई थी।
देर रात हत्या की वारदात के बाद पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई थी।

17 साल बाद सात माह पहले जेल से छूटा था
बताया जा रहा है कि प्रदीप ने अपनी पत्नी को जलाकर मार दिया था। इस केस में वह करीब 17 साल तक जेल में रहा। करीब सात माह पहले ही वह जेल से छूटा था। यह भी पता चला है कि प्रकाश ठाकुर भी करीब 6 साल पहले हत्या के मामले में दो साल जेल में बंद रहा। जेल से छूटने के बाद उसने ATM में तोड़फोड़ कर चोरी करने का प्रयास किया था। इस केस में वह करीब चार साल जेल में बंद रहा।

अपराधी किस्म का है परिवार
प्रकाश ठाकुर का भाई मोनू ठाकुर भी चोरी का आरोपी है। वह बीते एक माह से जेल में है। वहीं, हत्या का आरोपी प्रदीप ठाकुर का भाई लड़की से रेप व अप्राकृतिक कृत्य के केस में जेल में बंद है। मृतक के साथ ही आरोपी दोनों का परिवार अपराधी किस्म के हैं।

24 घंटे के भीतर दूसरा मर्डर
सरकंडा क्षेत्र के अशोक नगर मुरूम खदान में एक दिन पहले गर्लफ्रेंड के झगड़े में युवक पर चाकू मारकर हत्या कर दी गई थी। पवन वस्त्रकार ने मोहल्ले के युवक मिथिलेश निर्मलकर को सबक सिखाने के लिए डंडे से पिटाई करने लगा। इससे नाराज मिथिलेश भागते हुए अपने घर पहुंचा और भाई दीपक निर्मलकर के साथ मिलकर पवन पर चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। उसने बीच बचाव करने वाले छोटू उर्फ देवानंद पर भी चाकू से हमला कर दिया। इस हमले में गंभीर रूप से घायल पवन की इलाज के दौरान मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...