24 व्यापारियों से 42 लाख की धोखाधड़ी:रिश्तेदार के साथ मिलकर जीता भरोसा, फिर लाखों का सामान खरीद कर हो गया था चंपत; अब गिरफ्तार

बिलासपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

बिलासपुर में एक व्यापारी के लाखों रुपए ठगी करने का मामला सामने है। व्यापारी ने पहले अपने रिश्तेदार के साथ मिलकर उसने व्यापारियों का भरोसा जीत लिया। फिर व्यापारियों से लाखों रुपए का सामान लेकर गायब हो गया। पुलिस ने आरोपी व्यापारी को गिरफ्तार कर लिया है। उसके पास से एक लाख 26 हजार रुपए जब्त किया गया है। मामला तारबाहर थाना क्षेत्र का है।

TI जेपी गुप्ता ने बताया कि सरकंडा में रहने वाले अंकित अग्रवाल पाली निवासी अपने रिश्तेदार शुभम अग्रवाल के साथ मिलकर पिछले कुछ सालों से किराना दुकान चलाता था। दोनों व्यापार विहार के व्यापारियों से सामान खरीद कर पाली व आसपास के व्यापारियों के पास ले जाकर बेचते थे। इस दौरान दोनों ने शुरूआत में पहले व्यापारियों का भरोसा में ले लिया और खरीदारी कर बराबर लेनदेन करता रहा। बाद में उसने व्यावसायी सच्चानंद वाधवानी के साथ ही अन्य व्यावसायियों से करीब 42 लाख रुपए का सामान उधारी में खरीद लिया और उनकी बकाया राशि देने टालमटोल करते रहा। कई महीनों तक परेशान होने के बाद व्यापारियों ने 24 दिसंबर को इसकी शिकायत थाने में की। पुलिस इस मामले में जुर्म दर्ज कर जांच कर रही थी। जांच के दौरान पुलिस ने फरार अंकित व शुभम अग्रवाल की तलाश भी की। लेकिन, दोनों गायब हो गए।
बस स्टैंड के पास घूमते पकड़े गए
पुलिस की टीम फरार अंकित और शुभम अग्रवाल की लगातार तलाश कर रही थी। लेकिन, दोनों नहीं मिले। बुधवार की सुबह पुलिस को सूचना मिली कि अंकित अग्रवाल पुराना बस स्टेंड के पास घूम रहा है। खबर मिलते ही पुलिस ने घेराबंदी कर उसे पकड़ लिया। इस दौरान पुलिस ने उसके पास से एक लाख 26 हजार रुपए बरामद भी किया है।
भेजा गया जेल, दूसरे की तलाश जारी
TI गुप्ता ने बताया कि अंकित अग्रवाल को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे रिमांड पर भेज दिया गया। धोखाधड़ी के इस मामले में अंकित से फरार शुभम के संबंध में पूछताछ कर जानकारी ली गई है। पुलिस की टीम शुभम अग्रवाल की तलाश कर रही है।

खबरें और भी हैं...