पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जान जोखिम में डाल रहे लोग:जान जाने का खतरा फिर भी रेल की पटरियों से निकल रहे बाइक सवार

पथरिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सुनार नदी पर बने बेलखेड़ी रेलवे पुल से जान जोखिम में डाल रहे लोग

रेलवे पटरियों से ट्रेन को निकलते तो देखा होगा, लेकिन दमोह-पथरिया मार्ग पर बने रेलवे पुल से इन दिनों पटरियों के बीचोंबीच से बाइक एवं पैदल चलने वाले लोग निकलते नजर आ रहे हैं। जिससे यहां पर कोई बड़ा हादसा होने की आशंका है। दरअसल दमाेह-पथरिया सड़क मार्ग पर प्रतिदिन सैकड़ों वाहनों का आना-जाना लगा रहता है। बारिश की वजह से बेलखेड़ी गांव के पास सुनार नदी पर बना कम ऊंचाई का पुल डूबने की वजह से रास्ता बंद हो जाता है। ऐसे में लोग पुराने पुल के पास बने रेलवे ओवरब्रिज की पटरियों के बीच से निकलते हैंं।

रेलवे कर्मचारियों के आने-जाने एवं मेंटनेंस के लिए पटरियों के पर से लोहे की चद्दर बिछाई हैं। इन्हीं चद्दर से लोग अपनी बाइक से आते-जाते हैं। वहीं पैदल चलने वाले लोग भी यहीं से जान जोखिम में डालकर निकलते हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इस ट्रैक से दिनभर में 100 से अधिक मालगाड़ियों एवं ट्रेनों की आवाजाही रहती है। यदि पुल से बाइक या पैदल चलते समय तेज रफ्तार ट्रेन अचानक सामने या पीछे से आ जाए तो फिर बचने का कोई रास्ता नहीं हैं। इसके अलावा जरा सी चूक होने पर लोग सीधे 50 फीट नीचे गहरी नदी में गिर सकते हैं।

इस ओर स्थानीय प्रशासन एवं रेलवे के अधिकारी भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। बेलखेड़ी निवासी भल्लू अठ्या, सत्तार खान, गुड्‌डू खान, भोला पटेल ने बताया कि जरा सी बारिश होने पर नदी पर बना पुराना पुल डूब जाता है, जिससे लोग अपनी जान की परवाह किए बिना रेलवे पुल से निकलते हैं। जब पुल पर पानी रहता है अधिकारी गढ़ाकोटा मार्ग से पथरिया पहुंच जाते हैं। इसलिए उन्हें आम जनता की फिक्र नहीं है।

खबरें और भी हैं...