24 घंटे फंदे पर लटका रहा शव:पुलिस ने कहा-पहले फोटो खींचकर लाओ, फिर चलेंगे, परिजन ने लगाए गंभीर आरोप

पथरिया8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पथरिया में एक व्यक्ति का शव फांसी पर लटका रहा। सूचना के 24 घंटे बाद पुलिस मौके पर पहुंची। इससे लोगों में गुस्सा देखने को मिला। दरअसल ग्राम सदगुंवा में एक व्यक्ति ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। जानकारी के अनुसार ग्राम सदगुंवा निवासी संतोष अहिरवार 45 ने गुरुवार की शाम घर पर फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी। उसी समय गांव के रामलाल व नाथूराम ने थाना पहुंचकर मृतक की जानकारी दी। लेकिन पुलिस ने दोनों से कहा कि मृतक संतोष की फोटो खींच कर भेजो और कल सुबह आना। जिसके चलते परिजन घर लौट गए।

जिससे मृतक का शव रात भर फांसी के फंदे पर लटका रहा और परिजन रात भर जागकर पुलिस का इंतजार करते रहे। शुक्रवार की सुबह 14 किमी का सफर तय करके फिर से परिजन पुलिस थाने पहुंचे। तब शुक्रवार की सुबह 11 बजे एएसआई एमके पटेल अकेले घटना स्थल पहुंचे और पंचनामा की कार्रवाई की। इधर शव परिजनों को ही फांसी के फंदे से उतारना पड़ा। परिजन नाथूराम ने बताया कि संतोष बुधवार की रात कमरे में सोने गए थे। गुरुवार की शाम तक जब बाहर नहीं आए तो परिजन उठाने पहुंचे। लेकिन जब कोई आवाज नहीं आई तो कुछ लोगों ने छप्पर पर चढ़कर कमरे में देखा तो संतोष फांसी के फंदे पर लटके थे। इसके बाद परिजनों घटना की सूचना पुलिस को दी। लेकिन 24 घंटे तक मृतक का शव फंदे पर ही लटका रहा। इधर पुलिस की लापरवाही से ग्रामीणों में भारी आक्रोश व्याप्त है।

लोगों का कहना है कि यदि पुलिस शाम को ही घर पर आ जाती तो शव को उसी समय उतार लिया जाता। ग्रामीणों का कहना है कि इसके पूर्व भी पुलिस की लापरवाही सामने आ चुकी है, लेकिन जिम्मेदार अधिकारियों को इससे कोई लेना-देना नहीं है। इस संबंध में पथरिया थाना प्रभारी मथुरा प्रसाद गौंड का कहना है कि मैं तो सागर गया था। मैंने मर्ग कायम करवा दिया है।

खबरें और भी हैं...