पेंड्रा में हजारों मछलियों की मौत:दुर्गा सरोवर में उपद्रवियों ने डाला जहर, तालाब के चारों ओर किनारे पर मरी मिली मछलियां

पेंड्रा8 महीने पहले
तालाब के किनारे पड़ी मरी मछलियां। पुलिस को तालाब के आसपास किसी प्रकार के जहर का खाली पैकेट या बोतल नहीं मिली है। टीम पूरे इलाके की जांच कर रही है। 

पेंड्रा के सबसे पुराने तालाबों में से एक दुर्गा सरोवर में बुधवार रात किसी ने जहरीला पदार्थ डाल दिया जिससे तालाब की हजारों मछलियों की मौत हो गई। गुरुवार सुबह स्थानीय लोगों ने देखा कि तालाब के चारों ओर किनारे पर मरी हुई मछलियां पड़ी हैं। सूचना के बाद पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

छत्तीसगढ़ की बड़ी नदियों में से एक अरपा के उदगम के पास दुर्गा सरोवर है। पेंड्रा इलाके के इस सरोवर में 12 महीनों पानी रहता है। यह काफी गहरा भी है। दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन के कारण इसका नाम दुर्गा सरोवर पड़ा। दूसरे धार्मिक आयोजनों में भी यहां लोग पहुंचते रहे हैं। आसपास के गांवों के लोग निस्तारी के लिए भी यहां पहुंचते रहे हैं।

तालाब के किनारे मरी मछलियां।
तालाब के किनारे मरी मछलियां।

सुबह ग्रामीणों को मछलियों की बदबू आई, इसके बाद वहां पहुंचे लोगों ने देखा कि तालाब के किनारे मरी हुई मछलियों का ढेर लगा हुआ है। मरी हुई बड़ी मछलियां पानी के किनारे आ गई हैं और हजारों की संख्या में छोटी मछलियां पानी में ही पड़ी हैं। ग्रामीणों ने पेंड्रा नगर पंचायत के अध्यक्ष राकेश जालान को सूचना दी। उन्होंने पुलिस में शिकायत की।

सूचना के बाद पेंड्रा थाना प्रभारी युवराज सिंह तालाब के निरीक्षण के लिए पहुंचे। इसके बाद मत्स्य विभाग की टीम भी वहां जांच के लिए पहुंच गई। पुलिस व विभागीय टीम का मानना है कि पहली नजर में मामला तालाब में जहरीला पदार्थ डालना ही लग रहा है। पुलिस के मुताबिक यहां मछली पकड़ने बड़ी संख्या में लोग आते हैं। उन्हीं के बीच हुए किसी विवाद के बाद ऐसा किए जाने की आशंका है। फिलहाल पुलिस को तालाब के आसपास किसी प्रकार के जहर का खाली पैकेट या बोतल नहीं मिली है। टीम पूरे इलाके की जांच कर रही है।

खबरें और भी हैं...