30 लाख का बिल, जवाब में 1 करोड़ का नोटिस:बिजली विभाग ने 2 दिन स्ट्रीट लाइट बंद की; पेंड्रा नगर पंचायत ने भेज दिया टैक्स नोटिस

पेंड्रा16 दिन पहले

छत्तीसगढ़ के गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले में अब बकाए बिल को लेकर लड़ाई शुरू हो गई है। बिजली विभाग ने बकाए को लेकर दो दिन के लिए पेंड्रा नगर पंचायत क्षेत्र की स्ट्रीट लाइट बंद कर दी थी। इसके बाद अब नगर पंचायत की ओर से विभाग को नोटिस भेजा गया है। इसमें समेकिट टैक्स चुकाने की बात कही गई है। यह बकाया करीब 1.18 करोड़ रुपए से ज्यादा का है। जिसे जल्द से जल्द जमा कराने के लिए कहा गया है।

दरअसल, बिजली विभाग का बिल अलग-अलग विभागों पर बकाया है। इसको लेकर कई बार नोटिस भी भेजी गया, लेकिन जवाब नहीं मिला। उनमें से ही पेंड्रा नगर पंचायत भी है। उस पर करीब 30 लाख रुपए का बिल बकाया था। जिसे लेकर करीब 10 दिन पहले विभाग ने गौरेला और पेंड्रा दोनों नगर पंचायत क्षेत्र की स्ट्रीट लाइटों की सप्लाई काट दी। दो दिन तक सड़कों पर अंधेरा रहा, फिर पंचायत की ओर से कुछ हिस्सा जमा कर दोबारा चालू कराया गया।

पेंड्रा नगर पंचायत की ओर से बिजली कंपनी को भेजा गया नोटिस।
पेंड्रा नगर पंचायत की ओर से बिजली कंपनी को भेजा गया नोटिस।

600 रुपए प्रति पोल के हिसाब से 12 साल का बिल भेजा
इसके बाद अब नगर पंचायत पेंड्रा की ओर से विद्युत विभाग को 12 साल का टैक्स नोटिस भेजा गया है। यह बकाया साल 2009 से 2021-22 तक के बिजली पोल का है। पंचायत के वार्ड 1 से लेकर वार्ड 15 तक में बिजली विभाग के करीब 2000 पोल लगे हैं। इनके जरिए पूरे शहर को बिजली सप्लाई की जाती है। अब 600 रुपए प्रति पोल सालाना के हिसाब से समेकित टैक्स जमा करने के लिए 1 करोड़ 18 लाख 5 हजार रुपए बकाया होता है।

बकाया बिजली बिल काट कर, बाकी रुपए जमा करे विभाग
नगर पंचायत अध्यक्ष राकेश जालान ने बताया कि पूरे शहर में लगे विद्युत पोलों की गिनती करवाई गई है। उसके हिसाब से टैक्स बना है। अब विद्युत विभाग बकाया 15 लाख रुपए लेकर शेष राशि का भुगतान तत्काल करे। जिससे उस राशि को क्षेत्र के विकास कार्यों में लगाया जा सके। वहीं पंचायत सीएमओ कन्हैया निर्मलकर ने बताया कि विगत 2009 से विद्युत विभाग के द्वारा नगर पंचायत क्षेत्र में लगे विद्युत पोलों का समेकित कर नहीं पटाया गया है।

खबरें और भी हैं...