आस्था:कलश स्थापना को ले निकली शोभायात्रा माता के प्रथम रूप शैलपुत्री की हुई पूजा

रतनपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कलशयात्रा में भाग लेती बाल कन्याएं। - Dainik Bhaskar
कलशयात्रा में भाग लेती बाल कन्याएं।

हिन्दू धर्म के शरदीय नवरात्र में मां दुर्गा की प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा अर्चना कलश स्थापित करके व अखंड ज्योति जलाकर गुरुवार से प्रारंभ की गई। इस दौरान बसन्तपुर प्रखंड अंतर्गत भगवानपुर पंचायत स्थित सार्वजनिक दुर्गा मंदिर साहेवान प्रांगण में 201 एवं दुर्गा काली मंदिर समदा प्रांगण में 101 बालिकाएं व महिलाएं भव्य कलश शोभायात्रा यात्रा में सामिल होकर कलश स्थापित किया। साथ ही रतनपुर पंचायत के मां वैष्णवी दुर्गा मंदिर बचनू चकला, दुर्गा मंदिर रतनपुर पुरानी बाजार, राम जानकी दुर्गा मंदिर 17 किमी नरपतपट्टी में श्रद्धालुओं ने हर्षोल्लास पूर्वक पूजा-अर्चना की। कलश यात्रा का प्रारंभ पूजा समिति अध्यक्ष सुशील मेहता एवं अध्यक्ष दुखी पासवान ने कलश देकर किया। बालिकाओं व महिलाओं ने कोसी नदी एवं राजपुर केनाल से जल भरा। पूजा आयोजन समिति द्वारा सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर पुख्ता इंतजाम किया गया था। पंडित रुद्रकांत झा, मनीष झा एवं नीरज झा ने बताया कि माता दुर्गा के नौ रूपों में पहले स्वरूप शैलपुत्री नाम से जानी जाती हैं। मौके पर सुनील कुमार राउत, रूपेश कुमार यादव, सचिव राम लखन दास, कोषाध्यक्ष संजय पंडित, ललन ठाकुर, किशोर ठाकुर, रोहित मेहता, सकलदेव पोद्दार, मुकेश पाल, संतोष मुखिया, नरेश मुखिया, झमेली मुखिया, विश्वनाथ मुखिया, हरेराम मेहता, अनिल कुमार पोद्दार, धीरेंद्र मेहता एवं अन्य मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...