2 दिन में 10 लाख के इनामी 2 नक्सली ढेर:मारे गए नक्सलियों के शव लेकर लौटे जवान; 2 नक्सली भी पकड़े गए

दंतेवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुकमा में जवानों ने मुठभेड़ में एक एरिया कमेटी मेंबर को ढेर किया है। - Dainik Bhaskar
सुकमा में जवानों ने मुठभेड़ में एक एरिया कमेटी मेंबर को ढेर किया है।

छत्तीसगढ़ के बस्तर में पुलिस नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन मानसून चला रही है। ऑपरेशन मानसून के तहत जवान एक्शन में नजर आ रहे हैं। नक्सलियों के गढ़ में घुसकर 2 दिन में 10 लाख रुपए के इनामी 2 नक्सलियों को ढेर कर दिया है। जिनके शव को लेकर जिला मुख्यालय पहुंचे हैं। साथ ही मुठभेड़ स्थल से 1 घायल समेत 2 नक्सलियों को भी गिरफ्तार किया गया है। इसके अलावा भारी मात्रा में विस्फोटक सामान, हथियार समेत नक्सल सामग्री भी बरामद की गई है।

नक्सलियों की मलांगेर और कटेकल्याण एरिया कमेटी में सुकमा और दंतेवाड़ा इन दोनों जिलों से फोर्स जंगल में घुसी थी। पहली मुठभेड़ कटेकल्याण इलाके के नडेनार-परचेली के जंगल में दंतेवाड़ा के जवानों के साथ हुई। दोनों तरफ से हुई गोलीबारी में जवानों ने एक 5 लाख रुपए के इनामी माओवादी महंगू मड़कम को ढेर कर दिया। महंगू कटेकल्याण एरिया कमेटी सदस्य (ACM) था। मारे गए नक्सली का शव भी बरामद कर लिया गया। फोर्स आगे बढ़ी और माओवादियों की दूसरी पार्टी के साथ मुठभेड़ हुई।

दंतेवाड़ा में मारा गया 5 लाख का इनामी माओवादी महंगू।
दंतेवाड़ा में मारा गया 5 लाख का इनामी माओवादी महंगू।

दूसरी बार हुई मुठभेड़ में DRG जवानों को भारी पड़ता देख माओवादी जंगल का सहारा लेकर भाग खड़े हुए। जवानों ने घेराबंदी कर एक माओवादी को गिरफ्तार कर लिया। जिसके बाद इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया गया तो एक नक्सली घायल अवस्था में मिला। जिसके कंधे पर गोली लगी थी। जवानों ने घायल नक्सली को जिला अस्पताल पहुंचाया। पूछताछ में दोनों ने अपना नाम मद्दा कवासी और गुड्डी मरकाम बताया। जिनकी पहचान जनमिलिशिया सदस्यों के रूप में हुई। दोनों के पास से हथियार भी बरामद किए गए।

सुकमा में भी मारा गया खूंखार नक्सली
इधर, दंतेवाड़ा के पड़ोसी जिला सुकमा में भी मुठभेड़ हुई। दंतेवाड़ा से खदेड़े गए माओवादी सुकमा के गादीरास थाना के मनकापाल के जंगल में पहुंच गए थे। जहां पहले से ही सुकमा DRG ऑपरेशन पर निकली हुई थी। मनकापाल के जंगल में जवानों के साथ नक्सलियों की मुठभेड़ हुई। करीब आधे घंटे तक चली इस मुठभेड़ में जवानों ने मलांगेर एरिया कमेटी के खूंखार माओवादी कमलेश को ढेर कर दिया। कमलेश भी एरिया कमेटी मेंबर (ACM) था। इस पर 5 लाख रुपए का इनाम घोषित था। जवान ने कमलेश के शव को जिला मुख्यालय लेकर आए। वहीं मुठभेड़ स्थल से भारी मात्रा में सामान भी बरामद किया गया।

2 माओवादियों को गिरफ्त्तार किया गया है।
2 माओवादियों को गिरफ्त्तार किया गया है।

क्या है ऑपरेशन मानसून?
ठंड और गर्मी के मौसम में नक्सली लगातार अपना ठिकाना बदलते रहते हैं। लेकिन बारिश के मौसम में ज्यादातर नक्सली एक ही जगह कैंप लगा कर अपना डेरा जमाए हुए रहते हैं। ऐसे में पुलिस को भी नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन को सफल बनाने में आसानी होती है। इसीलिए पुलिस बस्तर में ऑपरेशन मानसून चला रही है। जवान उफनती नदी, फिसलन भरी चट्टानों को पार कर अंदरूनी इलाकों में घुसते हैं। साल 2021 में ऑपरेशन मानसून के शुरुआती दिनों में ही पुलिस ने 7 माओवादियों को ढेर कर दिया था। वहीं पिछले 2 सालों में 21 माओवादी मारे गए हैं।

जवानों को दिया जाता है यह मानसून किट
मानसून के समय नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन पर जाने से पहले जवानों को मानसून किट उपलब्ध करवाया जाता है। जिनमें मुख्य रूप से रैनकोट, वाटरप्रूफ पिठ्ठू , टॉर्च, वाटरप्रूफ जूता, सहित अन्य सामान दिए जाते हैं। जवानों ने मानसून के समय साल 2018 में तिमेनार मुठभेड़ में 8 और 2019 की एक मुठभेड़ में 7 नक्सलियों को ढेर किया था। वहीं बस्तर के अलग-अलग जिलों में भी मानसून के समय पुलिस को कई बड़ी सफलताएं मिली हैं।

खबरें और भी हैं...