राजेंद्र शास्त्री ने कहा:जीव परमात्मा का अंश है इसलिए उसके अंदर अपार शक्ति रहती है

नवागढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ग्राम मगरघटा में चल रहे श्रीमद् भागवत कथा में शनिवार को पं. राजेंद्र शास्त्री ने श्रीकृष्ण रुख्मिणी विवाह प्रसंग सुनाया। शास्त्री ने भागवत कथा के महत्व को बताते हुए कहा कि जो भक्त कृष्ण-रुख्मिणी के विवाह उत्सव में शामिल होते हैं उनकी वैवाहिक समस्या हमेशा के लिए समाप्त हो जाती है। शास्त्री ने कहा कि जीव परमात्मा का अंश है। इसलिए जीव के अंदर अपार शक्ति रहती है। यदि कोई कमी रहती है, तो वह मात्र संकल्प की होती है। संकल्प एवं कपट रहित होने से प्रभु उसे निश्चित रूप से पूरा करेंगे।

उन्होंने महारास लीला उद्धव चरित्र, कृष्ण मथुरा गमन और रुख्मिणी विवाह महोत्सव प्रसंग पर विस्तृत रुप से कथा सुनाई। इस दौरान भाजपा जिला महामंत्री विकास धर दीवान कथा ने कहा भागवत कथा सुनकर काफी सुखद अनुभूति होती है। लोगों में संस्कार का प्रवाह होता है।

समाज एवं परिवार के लिए त्याग की प्रेरणा मिलती है। हमें कथा को अपने जीवन में आत्मसात करने की आवश्यकता है। हम सब प्रवचन सुनने आते हैं और उसके बाद हम सब भूल जाते हैं। इस अवसर पर बजरंग तिवारी, राजेन्द्र तिवारी, महेंद्र तिवारी, नरेन्द्र शर्मा, ब्रम्हेन्द्र तिवारी, अविनाश तिवारी, प्रनीश चौबे, लक्ष्मी वर्मा, कृष्णा ठाकुर मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...