16 जून से 14 अगस्त तक प्रवेश की प्रक्रिया:एडमिशन की मारामारी : बीए करने वाले ज्यादा, 1 सीट के पीछे दो-दो आवेदन

भिलाई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हेमचंद यादव विवि में प्रथम वर्ष में  सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धा इस बार  बीए में प्रवेश के लिए है। - Dainik Bhaskar
हेमचंद यादव विवि में प्रथम वर्ष में  सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धा इस बार  बीए में प्रवेश के लिए है।

हेमचंद यादव विवि में प्रथम वर्ष में सबसे ज्यादा प्रतिस्पर्धा इस बार बीए में प्रवेश के लिए है। कुल 12985 सीटों के लिए अब तक 29,194 आवेदन आ चुके हैं। इस तरह एक सीट के पीछे 2-2 विद्यार्थी हैं। इसी तरह बीएससी कुल सीट 13,575 के लिए 28,255 आवेदन और बीकॉम की 9,998 सीटों के लिए 12101 आवेदन आ चुके हैं। इस तरह विवि से संबद्ध 143 कॉलेजों में बीए, बीकॉम और बीएससी की कुल 36,558 सीटों के लिए विवि को अभी तक 69550 आवेदन मिले हैं। इसके अलावा बीसीए और बीबीए के लिए अलग से आवेदन आए हैं।

इनकी मेरिट लिस्ट बनाने के लिए विवि ने कॉलेजों के प्राचार्यों और संचालकों को निर्देश दिया है कि जब तक केंद्रीय माध्यमिक माध्यमिक शिक्षा मंडल (सीबीएसई) के नतीजे नहीं आ जाते, प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए प्रावीण्य सूची जारी न की जाए। हालांकि सभी विद्यार्थियों से ऑनलाइन आवेदन लिए जा रहे हैं। 16 जून से आवेदन की प्रक्रिया की गई है। 14 अगस्त तक प्रक्रिया पूरी करनी है। इसके बाद 26 अगस्त तक कुलपति की अनुमति से प्रवेश दिया जा सकेगा। छात्रों के मुताबिक सीबीएसई 12वीं के परिणाम घोषित होने के साथ 7 दिनों के अंदर उन छात्रों को कॉलेज में प्रवेश मिलेगा।

निर्धारित समय सीमा पर कोर्स पूरा करने का लक्ष्य
प्रथम वर्ष को छोड़कर अन्य सभी कक्षाओं में जुलाई में पढ़ाई शुरू होती है तो समय सीमा के भीतर पाठ्यक्रम पूरा किया जा सकेगा। इसके लिए पहले ही उच्च शिक्षा विभाग ने शैक्षणिक कैलेंडर जारी कर दिया है। उसका क्रियान्वयन करते हुए समय कॉलेजों में नियमित ऑफलाइन कक्षाएं लगाकर पढ़ाई शुरू कराई जाए।

सेकंड ईयर, फाइनल और फर्स्ट सेमेस्टर में प्रवेश के लिए ले रहे आ‌वेदन, कॉलेज प्रबंधन भी डीयू के संपर्क में
शिक्षा सत्र 2022-23 शुरू हुए करीब 21 दिन बीत चुके हैं, लेकिन सेकंड ईयर, फाइनल और फर्स्ट सेमेस्टर की कक्षाओं में पढ़ने पढ़ाने का काम शुरू नहीं हुआ है। इससे सत्र में पिछड़ने की आशंका है। इसे ध्यान में रखते हुए प्राचार्यों की बैठक लेकर कुलपति ने विवि से संबद्ध सभी शासकीय और निजी महाविद्यालयों के प्राचार्यों और संचालकों को सेकंड ईयर, फर्स्ट ईयर और फर्स्ट सेमेस्टर में एडमिशन देकर पढ़ाई शुरू करने को कहा है।

बीए, बीकॉम और बीएससी के नतीजे नहीं आने की बात पर कहा गया है कि शिक्षा सत्र 2021-22 की परीक्षा में छात्रों को किताब देखकर उत्तर लिखने की छूट मिली थी। इसमें अधिकांश विद्यार्थियों पास हो सकते हैं। अत: नियमित विद्यार्थियों को अगली कक्षा में प्रवेश देकर पढ़ाई शुरू कराएं।

खबरें और भी हैं...