BJP प्रदेश प्रभारी का बासी प्रेम:डी पुरंदेश्वरी बोलीं- बोरे बासी खाना कोई नई बात नहीं, मैं खुद बचपन से खाती हूं

दुर्ग2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपा की बैठक - Dainik Bhaskar
भाजपा की बैठक

छत्तीसगढ़ की भाजपा प्रभारी डी पुरंदेश्वरी ने दुर्ग में पार्टी के नेताओं की बैठक ली। उन्होंने 1 मई के दिन श्रमिकों के सम्मान में प्रदेश में चलाए गए बोरे बासी अभियान को लेकर कहा कि बासी खाना कोई नई बात नहीं है। पहले भी लोग बासी खाते थे। मैं खुद बासी खाती हूं और बचपन से खाती आ रही हूं।

आगामी विधानसभा चुनाव यानी मिशन 2023 को लेकर दुर्ग में शनिवार को भाजपा पदाधिकारियों की बैठक आयोजित की गई। इस बैठक में भाजपा की प्रदेश प्रभारी डी पुरंदेश्वरी, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय, राज्यसभा सांसद सरोज पाण्डेय और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह मौजूद रहे। 2023 में बीजेपी का मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होगा इस बारे में पुरंदेश्वरी ने कहा यह पार्टी आलाकमान तय करेंगे और वही निर्णय मान्य होगा। पुरंदेश्वरी के इस बयान से यह स्पष्ट हो गया है कि इस बार डॉ. रमन सिंह की जगह किसी दूसरे को भी मुख्यमंत्री का चेहरा बनाया जा सकता है।

बैठक के दौरान मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए प्रदेश प्रभारी ने राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पूरी तरह से विफल है। वह भ्रष्टाचार में डूबी हुई है। भ्रष्टाचार का उदाहरण यही है कि इनके द्वारा बनाए गए PM आवास वापस हो रहे हैं। सरकार ने जो युवाओं से वादा किया था उसे अभी तक पूरा नहीं कर पाई। बैठक को लेकर उन्होंने कहा कि मिशन 2023 के लिए रणनीतिक तरीके से कार्य किया जा रहा है। बैठक में सभी पदाधिकारियों को जिम्मेदारी के साथ संभागवार कार्य करने के लिए कहा गया है। भाजपा की पकड़ हर एक बूथ व मतदाता तक है। वहां अपने और कांग्रेस के शासन में हुए विकास के मुद्दे को लेकर जाएगी। संगठनात्मक रूप से भी पार्टी को मजबूत करने पर कार्य किया जा रहा है। बैठक में प्रेम प्रकाश पांडेय, विधायक विद्या रतन भसीन, संभाग प्रभारी किरण देव, जागेश्वर साहू, अभिषेक सिंह सहित सभी जिला अध्यक्ष व जिला प्रभारी उपस्थित थे।

खैरागढ़ चुनाव में सरकार का दुरुपयोग हुआ

खैरागढ़ उप चुनाव में भाजपा की हार को लेकर पुरंदेश्वरी ने कहा कि वहां प्रशासन का दुरुपयोग किया गया है। एक उप चुनाव को जीतने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री ने एक दो नहीं 29 सभाएं की हैं। बीजेपी भी सत्ता में रही है, लेकिन उसने शासन सत्ता का दुरुपयोग इस तरह से कभी नहीं किया।