वैकल्पिक मार्ग फेल:कुम्हारी ब्रिज के पास रोज सुबह और शाम सिर्फ जाम, लग रहीं रोज कतारें

भिलाई13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कुम्हारी में निर्माणाधीन ओवर ब्रिज को तीन दिन पहले 20 दिनों के लिए बंद कर दिया गया। इस दौरान ब्रिज के ऊपर आर्क व अन्य हिस्सों का मेंटेनेंस किया जाना है। नेशनल हाइवे के इस हिस्से पर ट्रैफिक के दबाव को कम करने के लिए 3 वैकल्पिक मार्ग सुझाए गए। इसके अलावा सर्विस लेन पर दो पहिया और चार पहिया वाहनों की आवाजाही के लिए मार्किंग की गई।

बावजूद इसके मार्ग पर लगातार जाम की स्थिति बन रही है। शनिवार को भी सुबह और शाम दोनों ही समय 5-5 घंटे तक जाम लग रहा है। सुबह 9 से 1 और शाम 5 से 10 के बीच दो किलोमीटर से अधिक लंबा जाम लग रहा है। डायवर्सन प्लान जारी होने के बाद भी सिर्फ 30 प्रतिशत वाहन इसका उपयोग कर रहे हैं।

सड़क में काम चलने की वजह से वाहनों की रफ्तार धीमी है। इस वजह से बड़ी संख्या में वाहन कुम्हारी के आसपास एकत्रित हो जा रहे हैं। ट्रैफिक पुलिस ने शहर से रायपुर और रायपुर से दुर्ग आने वाले वाहन चालक अगर सेक्टर एरिया से सिरसा गेट और दुर्ग की ओर से रायपुर जाने वाले उतई से मोतीपुर वाला रास्ता सुझाया था, जिसका उपयोग लोग नहीं कर रहे हैं।

बता दें कि कुम्हारी फ्लाई ओवर में इन दिनों जाम के चलते राहगीर काफी परेशान हैं। लेकिन वैकल्पित मार्ग का इस्तेमाल नहीं करने के कारण इस सड़क पर दबाव बढ़ गया है। राहगीरों ने बताया कि उन्हें कुम्हारी से कुछ दूरी तक जाना है तो वे वैक्ल्पिक मार्ग का इस्तेमाल नहीं कर सकते। इसी रास्ते से गुजरना ही पड़ता है। हर दिन जाम की स्थिति बनती है। फिलहाल यातायात विभाग ने डाइवर्टेड प्लान बनाया है, जिसका असर नहीं दिख रहा है।

सड़क की चौड़ाई कम, इस वजह से रोज दोनों तरफ लग रहीं कतारें
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक कुम्हारी ओवर ब्रिज के पास सड़क की चौड़ाई कम है। इसकी वजह से ओवर ब्रिज के निर्माण कार्य के लिए बंद करने के बाद जाम लगने लगा है। जबकि पहले वाहन पीक आवर में ब्रिज के जरिए क्रॉस हो जाते थे। इसकी वजह से जाम नहीं लगता था। अधिकारियों के मुताबिक सुबह और शाम के पीक आवर में ज्यादा जाम लग रहा है। दोपहर 1 से 4 बजे के बीच ट्रैफिक का फ्लो कम रहता है। इस वजह से इस दौरान जाम नहीं लगता है।

दिन में 10 घंटे से ज्यादा का समय जाम में गुजर रहे, शाम को दिक्कत
दिन में 10 घंटे कुम्हारी ओवर ब्रिज निर्माण के कारण जाम की स्थिति बन रही है। यातायात विभाग के अधिकारियों के मुताबिक सुबह 9 से 1 और शाम 5 से 10 बजे के बीच रायपुर और दुर्ग के बीच ट्रैफिक का फ्लो ज्यादा रहता है। सुबह रायपुर जाने वालों की संख्या ज्यादा रहती है। इसी तरह शाम को दुर्ग लौटने वालों की संख्या ज्यादा रहती है। इसके कारण यातायात का दबाव बड़ जाता है। ट्रैफिक होने के कारण भी जाम लग रहा है।

दुर्ग-रायपुर के लिए कुम्हारी के अलावा ये रास्ते सुझाए गए थे

  • 2 पहिया एवं हल्के 4 पहिया वाहन चालक जाम से बचने के लिए 20 दिन तक उतई-सेलूद-फुण्डा-मोतीपुर-अम्लेश्वर मार्ग।
  • पावर हाउस, भिलाई-03 से रायपुर जाने वाले वाहन चालक सिरसा गेट चौक से अण्डर ब्रिज मार्ग से मोतीपुर-अमलेश्वर मार्ग।
  • रायपुर से दुर्ग भिलाई आने वाले दो पहिया, हल्के वाहन चालक रायपुरा से अम्लेश्वर-मोतीपुर-सिरसा गेट मार्ग ट्विनसिटी से रायपुर जाने वाले इन रास्तों का करें उपयोग
  • सेक्टर, सुपेला ,खुर्सीपार और ओल्ड भिलाई से रायपुर की ओर जाने वाले वाहन चालक सिरसा गेट से मोतीपुर व अमलेश्वर मार्ग।
  • दुर्ग-रायपुर जाने वाले उतई, फुंडा से मोतीपुर होते हुए अमलेश्वर के रास्ते रायपुर और दुर्ग मार्ग।
  • चरोदा और गनियारी के वाहन चालक उरला,कुरीदडीह से परसदा और अमलेश्वर के रास्ते रायपुर और दुर्ग मार्ग।

पुलिस बल की तैनाती, जाम न लगे इसकी मॉनीटरिंग भी कर रहे
जाम न लगे, इसके लिए पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ा दी गई है। ब्रिज के पास हादसों को ध्यान रखते हुए एम्बुलेंस और हाईवे पेट्रोलिंग को तैनात किया गया है। जवान वाहनों के मूवमेंट को रुकने नहीं देते हैं। ओवर ब्रिज निर्माण के बाद ही जाम से राहत मिलेगी। जाम से बचने के लिए वाहन चालकों को डायवर्ट रुट तय करना होगा।
गुरजीत सिंह, डीएसपी ट्रैफिक दुर्ग

खबरें और भी हैं...