ये ऐप डाउनलोड करते ही उड़ गए पैसे:कस्टमर केयर का नंबर निकला ठग का, उसने खाते से पार कर दिए रुपए

दुर्ग2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डमी फोटो - Dainik Bhaskar
डमी फोटो

दुर्ग जिले में एनीडेस्क एप्लीकेशन के माध्यम से एक और महिला ठगी का शिकार हो गई। महिला ने गूगल-पे के माध्यम से दुर्ग निगम को 1383 रुपए का भुगतान किया, लेकिन रुपए उन्हें नहीं मिले। इस पर उसने गुगल से नंबर सर्च करके कस्टमर केयर को फोन किया। लेकिन वह नंबर फ्रॉड का निकल गया। उसने महिला से एनिडेस्क ऐप डाउनलोड कराया और उसके खाते से करीब एक लाख रुपए पार कर दिए। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

दुर्ग कोतवाली टीआई भूषण एक्का ने बताया कि बोरसी पंचशील सेक्टर, स्ट्रीट-4, निवासी सरोज जायसवाल (57 वर्ष) ने थाने में ठगी की शिकायत दर्ज कराई है। उसने बताया कि 15 अप्रैल को गूगल-पे के माध्यम से उसने 1383 रुपए दुर्ग नगर निगम के खाते में डाले थे। सरोज के मोबाइल में पैसे कटने का मैसेज तो आया, लेकिन संबंधित खाते में भुगतान नहीं हुआ। इस पर उसने गूगल से कस्टमर केयर का नंबर खोजा और उसमें फोन लगाया। जो नंबर गूगल में मिला वह कस्टमर केयर का न होकर फ्रॉड का था। उसने महिला को झांसे में लिया और उसके मोबाइल में एनीडेस्क एप्लीकेशन डाउनलोड करवाकर उसके सारे रुपए खींच लिए। इससे पहले भी दुर्ग की एक महिला डॉक्टर एनीडेस्क ऐप से ठगी का शिकार हो चुकी है।

इस तह महिला हुई ठगी का शिकार

महिला ने पुलिस को बताया कि उसने गूगल पर गुगल-पे के कस्टमर नंबर को ढूंढा और मोबाइल नंबर 8260479769 पर फोन किया था। फोन पर बात करने वाले ने खुद को गूगल पे का कस्टमर केयर अधिकारी बताया। उसने महिला से उसके फोन में एनिडेस्क ऐप डाउनलोड करने की सलाह दी। महिला ने जब उसके सभी इंस्ट्रक्शन को फॉलो कर दिया तो थोड़ी देर में उसके बैंक खाते से पांच किस्तों 49,986 रुपए, 19,999 रुपए, 9999 रुपए, 9999 रुपए, 7000 रुपए सहित कुल 96 हजार 983 रुपए निकल गए।

क्या है एनीडेस्क ऐप

हर एप्लीकेशन की अपनी एक जरूरत होती है। एनीडेस्क एक ऐसा एप्लीकेशन है, जिसके जरिए सात समंदर पार बैठा व्यक्ति आपके मोबाइल या कंप्यूटर को एक्सेस कर सकता है। इसका इस्तेमाल अधिकतर कंपनी एचआर या आईटी के लोग करते हैं। एनीडेस्क एप्लीकेशन को डाउनलोड करवाकर सामने वाला व्यक्ति आपको एक विशेष कोड भेजेगा। उस कोड को जैसे ही आप अपने एनीडेस्क एप्लीकेशन में डालकर इंटर दबाएंगे आपका मोबाइल या कंप्यूटर जिसमें भी यह एप्लीकेशन डाउनलोड होगा उसे सामने वाला व्यक्ति उसी तरह चला पाएगा, जैसा कि आप अपने हाथों से उसे चलाते हो। ऐसा करके ठग आपके बैंक ऐप या फोन पे, गूगल पे जैसे डिजिटल पेमेंट ऐप को ओपन करके आपके खाते से रुपए अपने खाते में ट्रांसफर कर लेते हैं। इसलिए भूलकर कभी भी कोई एप्लीकेशन या लिंक को डाउनलोड न करें।

खबरें और भी हैं...