चर्चा:कर्मियों ने सांसद को बताए निजीकरण के नुकसान

भिलाईएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एफएसएनएल को निजीकरण से बचाने के लिए कर्मचारियों का प्रतिनिधि मंडल सांसद विजय बघेल से मिला। चर्चा के दौरान कंपनी के निजीकरण से होने वाले नुकसान से अवगत कराया।

कार्मिकों ने सांसद को बताया कि पूर्व में भारत सरकार द्वारा एफएसएनएल की बिक्री प्रक्रिया प्रारंभ की गई थी परन्तु एफएसएनएल की कार्य प्रणाली और महत्व को देखते हुए जुलाई 2017 में विनिवेश प्रक्रिया रोक दी गई।

साथ ही इसका विलय इस्पात मंत्रालय के अधीनस्थ लोक उद्यम में किया जाना प्रस्तावित था। परन्तु वर्ष 2019 में इसकी निजीकरण प्रक्रिया एक बार फिर शुरु कर दी गई। जिसके कारण कर्मचारियों में केंद्र सरकार के प्रति असंतोष व्याप्त है। सांसद बघेल ने सभी कार्मिकों को आश्वस्त किया कि इस मामले में चर्चा करेंगे।

खबरें और भी हैं...