फीस नहीं देने पर अभिभावकों को पीटीएम से लौटाया:जामुल डीएवी के पैरेंट्स मीटिंग में हंगामा, फीस चुकता करने के लिए लगवाई लंबी लाइन

भिलाई4 महीने पहले
अपना काम और नौकरी छोड़कर घंटों फीस पटाने लाइन में खड़े रहे पैरेंट्स

एसीसी जामुल में संचालित डीएवी पब्लिक स्कूल में पैरेंट्स टीचर मीटिंग (PTM) में जमकर हंगामा हुआ। पीटीम में जैसे ही पैरेट्स क्लास टीचर के पास पहुंचे उन्हें फीस पटाने के लिए भेज दिया गया। इतना ही नहीं फीस काउंटर में सिर्फ एक कर्मचारी बैठाया गया। इससे परिजनों को घंटों लाइन में लगना पड़ा। इस बात को लेकर परिजनों ने काफी हंगामा किया।

फीस पटाने के लिए लाइन में खड़े 80 साल के बुजुर्ग एसएस उपाध्याय ने कहा कि उन्हें पहले से फीस पटाने के लिए कोई रिमाइंडर या कॉल नहीं किया गया। न ही स्कूल डायरी में नोट लिखा गया। पैरेंट्स मीटिंग में हाफ इयर्ली एग्जाम के नंबर और कॉपी भी दिखाई जानी थी। जब क्लास रूम पहुंचे टीचर ने कहा, दो महीने की फीस बाकी है उसे चुका कर आओ। नीचे फीस चुकाने के लिए गए तो वहां एक ही काउंटर खुला था। उसमें काफी लंबी लाइन थी। बुढ़ापे में बीमार हालत में इस तरह लाइन में खड़ा कराना कहां तक सही है। फीस पटाने के लिए रिमाइंड दिया जाता या और भी 6 माह का समय है आगे वार्षिक परीक्षा फीस न देने पर उसमें बैठने से रोकते तो समझ आता इस तरह फीस के लिए परिजनों को परेशान करना गलत है।

पैरेंट्स मीटिंग की वजह से लेनी पड़ी छुट्टी
बालोद में पेशे से शिक्षिका पी वर्मा का कहना है कि, उन्हें 9 बजे पैरेंट्स मीटिंग में बुलाया गया। फिर फीस पटाने के लिए अचानक बोला गया। यहां लंबी लाइन में लगना पड़ा। इससे अब उन्हें छुट्टी लेना पड़ा। अगर कोई शुरूआत से फीस नहीं पटाता तो समझ आता। मात्र दो - तीन महीने की फीस के लिए इस तरह स्कूल बुलाकर पैरेंट्स को पैरेंट्स टीचर मीटिंग से बाहर करना। फीस के लिए लाइन में खड़ा होने के लिए मजबूर करना कहां का शिष्टाचार है। डीएवी गुरुकुल परंपरा का पालन करने वाला स्कूल है, लेकिन अब यहां भी बाकी प्राइवेट स्कूलों का कल्चर आता जा रहा है।

फीस पटाने के लिए लगी परिजनों की लंबी लाइन
फीस पटाने के लिए लगी परिजनों की लंबी लाइन

प्राचार्य छुट्टी पर तब रखी गई पैरेंट्स मीटिंग
पीटीएम में आए पैरेंट्स का कहना है कि स्कूल में पीटीएम इसी लिए रखा जाता है कि बच्चे के ग्रोथ और उसकी एक्टिविटी का जानकारी टीचर दे सके। साथ ही यदि कोई टीचर सहीं न पढ़ाए तो उसकी शिकायत पैरेंट्स प्रिंसिपल से कर सकें। डीएवी में मनाने तरीके से काम चल रहा है। यहां प्रिंसिपल पिछले तीन से छुट्टी पर हैं। ऐसे समय में पीटीएम रखा जा रहा है, जिससे पैरेंट्स प्रिसिंपल से मिल ही न पाएं। प्रिंसिपल के न होने से कई बच्चों को स्पोर्ट एक्टिविटी का मैडल तक नहीं मिला है।

पैरेंट्स मीटिंग से बाहर आते परिजन व बच्चे
पैरेंट्स मीटिंग से बाहर आते परिजन व बच्चे

अभिभावकों से सही तरीके से पेश आए स्कूल प्रबंधन
डीईओ दुर्ग अभय जायसवाल का कहना है फीस चुकाना जरूरी है। बिना फीस के कोई संस्थान चल नहीं सकता है। लेकिन अचानक इस तरह फीस के लिए पैरेंट्स को लाइन में खड़ा कराना गलत है। स्कूल प्रबंधन को चाहिए वह सभी अभिभावकों से अच्छे से पेश आएं उनके साथ गलत व्यौहार न करें। यदि ऐसी शिकायत आती है तो इसकी जांच की जाएगी।

खबरें और भी हैं...