चुनाव:दशरथ वर्मा फिर बने राजप्रधान नीलमणि को 50 वोटों से हराया

पलारी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जीत के बाद प्रमाण पत्र देते हुए केंद्रीय चुनाव प्रभारी। - Dainik Bhaskar
जीत के बाद प्रमाण पत्र देते हुए केंद्रीय चुनाव प्रभारी।

छत्तीसगढ़ मनवा क्षत्रिय कुर्मी समाज धरसीवां राज के राज प्रधान का चुनाव 15 मई को हुआ। इसका परिणाम देर रात केंद्रीय चुनाव अधिकारी खोड़स कश्यप ने घोषित किया। इसमें दशरथ वर्मा अपने निकटतम प्रतिद्वंदी नीलमणि परगनिया से 50 वोटों से चुनाव जीतकर लगातार दूसरी बार राजप्रधान बने। छत्तीसगढ़ मनवा कुर्मी समाज का 7वां राजप्रधान का चुनाव प्रत्यक्ष प्रणाली से 15 मई को हुआ। तीन प्रत्याशियों ने अपना भाग्य आजमाया था। वहीं कुल 59 पोलिंग बूथ बनाए गए थे।

गांव-गांव में मतदान हुआ जहां पर सामाजिक मतदाताओं ने अपना मताधिकार का प्रयोग किया। 13 हजार कुल मतदाताओं में से 8849 लोगों ने अपना मताधिकार का प्रयोग किया। चुनाव त्रिकोणी और काफी दिलचस्प रहा जिसमें अंतिम समय तक प्रत्याशियों कि धड़कन को बढ़ाकर रखा था। चुनाव मैदान में अलख राम वर्मा, दशरथ वर्मा और नीलमणि परगनिया थे, तीनों के बीच काफी संघर्ष हुआ।

केंद्रीय चुनाव प्रभारी खोड़स कश्यप ने निष्पक्ष चुनाव सम्पन्न कराया चुनाव अधिकारी द्वारा घोषित परिणाम के अनुसार कुल मतदान 8949 जिसमें 91मत रिजेक्ट हुए तो वैध मत 8858 में अलखराम वर्मा को 2866 दशरथ वर्मा 3021 नीलमणि परगनिया को 2971 मत मिले ।

इस तरह 50 मतों से दशरथ वर्मा को धरसीवां राज का राजप्रधान निर्वाचित घोषित किया गया। तीनों प्रत्याशियों के बीच काफी कड़े मुकाबला रहा कुल 54 राउंड की गिनती में अलख राम 22 राउंड में आगे रहे जिसे तो वही दशरथ वर्मा 20 राउंड में तो वहीं नीलमणि 12 राउंड की गिनती में आगे चले जबकि लास्ट काउंटिंग में दशरथ वर्मा 50 वोटों से जीत गए।

खबरें और भी हैं...