• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Janjgir
  • Black Marketing Of 5 Lakh Food Grains, Ration Not Distributed To The Beneficiaries, The President And Secretary Of The Self help Group Arrested

पीडीएस में भ्रष्टाचार:5 लाख के खाद्यान्न की ब्लैक मार्केटिंग, हितग्राहियों को नहीं बांटा राशन, स्वसहायता समूह की अध्यक्ष और सचिव गिरफ्तार

जांजगीर-चांपा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी महिलाएं। - Dainik Bhaskar
आरोपी महिलाएं।

जांजगीर-चांपा जिले के नैला चौकी इलाके में धोखाधड़ी और गबन के 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। शासकीय उचित मूल्य की दुकान का संचालन करने वाली स्वसहायता समूह की अध्यक्ष पूर्णिमा महंत और सचिव पार्वती महंत को पुलिस ने अपने शिकंजे में ले लिया है। दोनों पर करीब 5 लाख रुपए के गबन का आरोप है।

पूर्णिमा महंत और पार्वती महंत पर खाद्यान्न कोटे में गबन का आरोप है। आरोपियों ने हितग्राहियों के राशन के कोटे में धोखाधड़ी कर 5 लाख 31 हजार रुपए का गबन कर लिया। जिसकी जानकारी ग्रामीणों ने ज्ञापन के माध्यम से दी। जांच में शिकायत सही पाए जाने पर 10 अगस्त को खाद्य अधिकारी प्रीति ठाकुर ने पूर्णिमा महंत और पार्वती महंत के खिलाफ नैला चौकी थाना जांजगीर में मामला दर्ज कराया। पुलिस ने भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 420, 409, 34 का अपराध पंजीबद्ध किया।

आरोपी पूर्णिमा महंत और पार्वती महंत
आरोपी पूर्णिमा महंत और पार्वती महंत

खाद्य अधिकारी ने जांच में सही पाया आरोप

खाद्य अधिकारी प्रीति ठाकुर ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि ग्राम मरकाडीह में शासकीय उचित मूल्य की दुकान का संचालन मां शारदा महिला स्वसहायता समूह के द्वारा किया जाता है। 22 जुलाई को स्वसहायता समूह का भौतिक सत्यापन किया गया। इसमें पाया गया कि राशन कार्डधारकों को आवंटन के लिए उपलब्ध कराए गए खाद्यान्न सामग्रियों को उन्हें नहीं दिया गया। चावल 111.20 क्विंटल, शक्कर 3.59 क्विटंल और नमक 3.99 क्विटंल जिसका मूल्य 5 लाख 31 हजार 915 रुपए है, उसे स्वसहायता समूह मरकाडीह की अध्यक्ष पूर्णिमा महंत और सचिव पार्वती महंत ने धोखाधड़ी कर गबन कर लिया है। दोनों आरोपियों ने हितग्राहियों को बांटे जाने वाले राशन की ब्लैक मार्केटिंग कर दी।

खाद्य अधिकारी की रिपोर्ट पर मामला दर्ज

खाद्य अधिकारी की रिपोर्ट के आधार पर आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी पूर्णिमा दास महंत और पार्वती दास महंत ने पुलिस की पूछताछ में अपना जुर्म कबूल कर लिया। इसके बाद उन्हें कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

खबरें और भी हैं...