कांग्रेस नेता तिर्की 60 लाेगाें के साथ भाजपा में शामिल:अब्राहम तिर्की बोले- आचार संहिता के बाद इतने ईसाई सदस्य आएंगे कि भाजपा संभाल नहीं पाएगी

जशपुरनगर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

2013 में कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ चुके रिटायर्ड वन अधिकारी अब्राहम तिर्की 60 लोगों के साथ भाजपा का दामन थाम लिया हैं। अब्राहम तिर्की ईसाई समुदाय के घर्म गुरु विशप इलानुएल केरकेट्टा के मित्र हैं। कांग्रेस छोड़ भाजपा में जाने की खबर पर अब्राहम तिर्की ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में कार्यकर्ताओं की पूछपरख नहीं होती है। पार्टी में खेमेबाजी की वजह से उन्हें घुटन महसूस हो रही थी। मोदी जी और अमित शाह द्वारा देशहित में लिए गए निर्णय व छत्तीसगढ़ में भाजपा द्वारा किए गए कार्यों से प्रभावित होकर उन्होंने भाजपा की सदस्यता लेने की बात कही।

जिले के कई लोग बीजेपी को ईसाई विरोधी मानते हैं, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास यह बहुत सही सोच है। भाजपा अपने कार्यकर्ताओं का कभी साथ नहीं छोड़ता यहां पूछपरख बहुत ज्यादा है। उन्होंने यह भी कहा कि ईसाई समुदाय का कांग्रेस से मोहभंग हो रहा है और 4 हजार ईसाई मतदाता भाजपा में आने के लिए तैयार खड़े हैं।

2013में एसडीओ फाॅरेस्ट से वीआरएस लेकर चुनाव लड़े
2008 में कांग्रेस की टिकट पाने की होड़ में थे । अजीत जोगी के समर्थन से अब्राहम की टिकट तय हो गई लेकिन अंतिम समय में टिकट वर्तमान विधायक व संसदीय सचिव यूडी मिंज को मिल गई। हालांकि 2008 का चुनाव यूडी मिंज ने 10 हजार से हारा। 2013 में इन्होंने अजीत जोगी और ईसाई समुदाय के धर्मगुरुओं के दबाव में टिकट तो हासिल कर लिया लेकिन भाजपा के प्रत्याशी रोहित साय से चुनाव हार गए।

कांग्रेस के सॉफ्ट हिंदुत्व से नाराज ईसाई समुदाय
अब्राहम तिर्की के भाजपा ज्वाइन करने की खबरों में यह बात भी सामने आ रही है कि छत्तीसगढ़ में 7 सीटों पर ईसाई मतदाता कांग्रेस की किस्मत हैं जिनके पलटने से कांग्रेस की सत्ता में वापसी मुश्किल खड़ी हो सकती है ।वही कुछ लोगो का आरोप है कि कांग्रेस के विधायक तुष्टिकरण की नीति छोड़कर मंदिरों की घण्टी बजाने में ज्यादा व्यस्त हैं। इस नेरेटिव को बीजेपी भी सेट कर रही है।

खबरें और भी हैं...