कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या:साहूकार पैसे वापस करने बना रहा था दबाव, फसल में भी नुकसान; फंदे पर लटकी मिली लाश

जशपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को शौंप दिया गया है। - Dainik Bhaskar
शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को शौंप दिया गया है।

छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले में एक किसान ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। वो कर्ज से परेशान था। साहूकार भी पैसे लौटाने उस पर दबाव बना रहा था। इतना ही नहीं फसल भी अच्छी नहीं हुई। इस वजह से भी वह दुखी था। अब फांसी के फंदे पर लटकी हुई उसकी लाश मिली है। मामला पंडरापाठ चौकी क्षेत्र का है।

छिछली (र) गांव में रामकुमार उर्फ़ उज्जवल यादव (26 ) अपने 2 बच्चों और पत्नी के साथ रहता था। उसने मक्के की खेती साझे में की थी। इसके लिए उसने साहूकार से 40 हजार कैश लिए थे। मगर मक्के की फसल में उसे नुकसान हुआ। जिसके कारण वह परेशान था। इस बीच बुधवार सुबह रामकुमार ने अपने घर के पास बने पेड़ पर फांसी लगाकर खुदी कर ली।

रामकुमार यादव।
रामकुमार यादव।

आस-पास के लोगों ने उसका शव फंदे से लटका हुआ देखा था। जिसके बाद परिजनों को इसकी जानकारी दी गई। पुलिस को भी इस घटनाक्रम के बारे में बताया गया। तब पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और शव का पोस्टमार्टम कराया गया है। परिजनों ने ही पुलिस को बताया कि रामकुमार कर्ज के चक्कर में काफी परेशान था। वो हमेशा कहता रहता था कि वो पैसे कैसे लौटाएगा। इस बीच उसने आत्महत्या कर ली है।

वहीं इस मामले में कर्ज की वजह से आत्महत्या की घटना की पुष्टि पुलिस ने की है। पंडरापाठ चौकी प्रभारी जुनस केरकेट्टा ने बताया कि वह जांच के लिए स्वयं गांव में गए हुए थे। जहां उन्हें जांच के दौरान पता चला कि लगभग 40 हजार का कर्ज मृतक ने साहूकारों से लिया था। जिसे वह चुका पाने में असमर्थ था। पुलिस मामले की जांच कर रही है। शव का पोस्टमार्टम कराकर शरीर परिजनों को सौंप दिया गया है।

प्रशासन का अलग दावा

उधर, बगीचा एसडीएम विजय प्रताप ने कहा कि रामकुमार यादव पिछले 01 वर्ष से अपने माता-पिता से अलग रहता था। उसकी स्वयं की तबीयत ठीक नहीं रहती थी, प्रारंभिक जानकारी के अनुसार पारिवारिक एवं स्वास्थ्यगत कारणों से आत्महत्या किया जाना प्रतीत होता है ।

खबरें और भी हैं...