शहादत को सलाम:अब बच्चे स्कूल में रोज देखेंगे, पढ़ेंगे अपने गांव के वीर सपूत की कहानी

जशपुरनगर3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आदिवासी बाहुल्य जशपुर जिले से देशसेवा में अबतक 52 जवानों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया है। यह जिले के लिए गौरव की बात है कि जशपुर जिले के गांव में युवा पुलिस व आर्मी में जाने का सपना लेकर बड़े होते हैं। देशसेवा के इस जज्बे को और बल मिले इसके लिए अब स्कूल स्तर से तैयारी की जा रही है। देशसेवा में शहीद होने वाले सभी जवानों को सम्मान देने के लिए उनके स्कूलों में जीवन परिचय के साथ उनकी तस्वीर लगाई जा रही है।

एसएसपी डी रविशंकर के निर्देश पर सभी 52 शहीदों के स्कूलों में उनकी तस्वीर, जीवन परिचय और शहादत की कहानी का पोस्टर लगाया गया है। शहीद जिस-जिस स्कूल में पढ़े हैं, जैसे प्राथमिक, माध्यमिक, हाईस्कूल व कॉलेज सभी जगहों पर यह पोस्टर लग चुका है।

आज गणतंत्र दिवस के मौके पर सभी स्कूलों में बच्चे अपने स्कूल के शहीद छात्र को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे और उनकी वीरगाथा सुनेंगे। इसके अलावा सभी थाना व चौकियों में जिले के सभी 52 शहीद जवानों की तस्वीर व उनका जीवन परिचय का पोस्टर लग चुका है। एसपी कार्यालय में एसपी कक्ष में भी यह पोस्टर देखा जा सकता है।

शहीदों के प्रति यह गांव वालों का सम्मान और प्यार है....

1. गांव में शहीद की मूर्ति, हर त्योहार में करते हैं याद : 19 अगस्त 2011 को बस्तर में पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में बशील टोप्पो शहीद हो गए थे। फरसाबहार ब्लॉक के पेंरवाआरा के बहादूर बेटे बशील टोप्पो नक्सली हमले में शहीद हुए थे। उनकी याद में गांव में शहीद बशील टोप्पो की मूर्ति लगाई गई है। वर्ष 2012 से हर साल गांव की बहनें रक्षाबंधन के अवसर पर शहीद के स्मारक पर पहुंचती हैं।

2. शहीद की याद में गांव में बना चौराहा
तपकरा थाना क्षेत्र के ग्राम तामामुंडा निवासी शहीद राजेश कुजूर की याद में उनके गांव में चौराहा बनाया गया है। शहीद राजेश कुजूर आरक्षक क्रमांक 103 जिला सुकमा में पदस्थ थे। 23 जून 2010 को थाना में सोलापल्ली में नक्सलियों द्वारा फायरिंग करने से गोली लगने पर वे शहीद हो गये थे। हर साल 23 जून को चौराहे पर ग्रामीण जुटते हैं और शहीद के नाम पर बने स्तंभ पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

3. गांव के प्राथमिक शाला का नाम शहीद के नाम पर: फरसाबहार ब्लॉक में धौंरासांड ग्राम पंचायत का केंदूटोली प्राथमिक शाला का पूरा नाम शहीद बनमाली यादव प्राथमिक शाला केंदूटोली है। अब इस स्कूल में भी शहीद बनमाली यादव का पोस्टर व जीवन परिचय लिखा गया है।

खबरें और भी हैं...