आराधना:बस स्टैंड में विराजे देवशिल्पी, बसाें का संचालन बाजारडांड से हाे रहा

जशपुर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बस स्टैंड में सजे पंडाल में विराजे बाबा विश्वकर्मा। - Dainik Bhaskar
बस स्टैंड में सजे पंडाल में विराजे बाबा विश्वकर्मा।

विश्वकर्मा जयंती के मौके पर शहर के बस स्टैंड में भव्य पंडाल बनाकर देवशिल्पी की मूर्ति स्थापित की गई है। बस स्टैंड में मोटर कर्मचारी एसोसिएशन द्वारा तीन दिनों के लिए मूर्ति स्थापित किया गया है। आज को धूमधाम से गाजे-बाजे के साथ देवशिल्पी की प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा। दूसरे दिन रविवार को समिति द्वारा भंडारे का आयोजन किया गया। साप्ताहिक बाजार पहुंचे सैकड़ों ग्रामीणों ने इस भंडारे में प्रसाद ग्रहण किया। कलयुग के सबसे शक्तिशाली व कृपालु देव माने जाने वाले भगवान विश्वकर्मा की जयंती पर पूरा शहर शनिवार को उनकी भक्ति में डूबा रहा। भगवान विश्वकर्मा देवशिल्पी माने जाते हैं। कलयुग भौतिक सुविधाओं का युग है, और मशीनरी वस्तुओं पर आज मनुष्य का जीवन आश्रित है। आज लगभग सभी की रोजी-रोटी मशीनरी वस्तुओं पर टिकी है। ऐसे में देवताओं के शिल्पी के जन्मदिन पर उन्हें खुश करने के लिए किसी ने कोई कसर नहीं छोड़ी।

शहर के बस स्टैंड वैदिक मंत्रोच्चार के साथ ब्राह्मणों ने बाबा विश्वकर्मा की मूर्ति स्थापना की। दो साल तक कोरोना की वजह से विश्वकर्मा पूजा धूमधाम से नहीं मनाया जा सका था। इस वर्ष बस स्टैंड में भव्य पंडाल सजा है। शनिवार को वाहन धोने के लिए शहर के सभी वॉशिंग सेंटरों में सुबह से ही वाहनों की कतार लगी रही।

बंद रहे गैरेज सहित कई प्रतिष्ठानों में हुई पूजा-अर्चना
बाबा विश्वकर्मा जयंती के मौके पर लोगों ने अपने प्रतिष्ठान के मशीनों की पूजा की। पूजा के बाद प्रतिष्ठान बंद कर दिए गए। शनिवार को शहर के अधिकांश मोटर गैरेज, प्रिंटिंग प्रेस, ऑटो पाट्स की दुकान, आटा चक्की, फोटो कापी दुकानें, बर्तन, फेब्रिकेशन की दुकानें बंद रहीं। ऐसी मान्यता है कि साल भर व्यक्ति जिस मशीनरी से कमाई कर अपने परिवार की रोजी-रोटी चलाता है वह मशीन बाबा विश्वकर्मा की देन है। इस दिन इन मशीनों से काम लेना लोग श्रद्धाभाव से उचित नहीं समझते हैं।

जयंती पर मशीन व वाहनों की हुई पूजा
बाबा विश्वकर्मा की जयंती पर लोगों ने मशीन व वाहनों की पूजा की। बस स्टैंड के पंडाल में वाहनों की पूजा करने के लिए गाड़ियों की कतार लगी रही। यहां पर व्यवस्था बनाने के लिए ट्रैफिक पुलिस के चार जवानों को तैनात किया गया है। बाबा विश्वकर्मा के पंडाल में भगवान के दर्शन के लिए भी श्रद्धालुओं की भीड़ लग रही है।

यात्री ध्यान दें: बसें पुुराने बजारडांड़ से रवाना होंगी
चूंकि बस स्टैंड में बाबा विश्वकर्मा का पंडाल सजा है और यहां वाहनों की पूजा के लिए गाड़ियों की कतार लग रही है, इसलिए बसों के खड़े होने की जगह बदल दी गई है। शनिवार से सभी यात्री बसें पुराने बजारडांड़ यानी बलराम मंच के सामने खड़ी हो रही है। सवारी भी यहीं उतारे जा रहे हैं और बस पकड़ने के लिए लोगों काे यहीं जाना होगा। आज शाम तक शहर का अस्थायी बस स्टैंड बलराम मंच के सामने की खाली जगह होगी।

खबरें और भी हैं...