फिर कतार में अन्नदाता:सहसपुर लोहारा में सहकारी बैंक के सामने भीड़ के चलते ट्रैफिक जाम की स्थिति रही

कवर्धाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सहसपुर लोहारा में सहकारी बैंक के सामने शाम 6 बजे किसानों की भीड़। - Dainik Bhaskar
सहसपुर लोहारा में सहकारी बैंक के सामने शाम 6 बजे किसानों की भीड़।

कबीरधाम जिले में न्याय योजना के तहत 1.37 किसानों के बैंक खाते में 80.58 करोड़ रुपए डाले गए हैं। अब पैसा निकालने के लिए बैंकों में भीड़ बढ़ गई है। भीड़ के चलते किसानों को बैंक के बाहर ही रोका जा रहा है। धूप में किसान कतार लगाने को मजबूर हैं।

अमूमन जिले के सभी सहकारी बैंकों में यही स्थिति देखने को मिल रही है। अपनी मेहनत का पैसा निकालने के लिए किसानों को पासबुक लेकर बैंक के बाहर दिनभर लाइन में खड़े रहना पड़ रहा है। गौरतलब है कि न्याय योजना के तहत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 21 मई को वर्चुअल माध्यम से जिले के 1 लाख 19 हजार 433 किसानों के खाते में इस योजना की पहली किस्त 76 करोड़ 94 लाख 22 हजार 851 रुपए जारी की। इसी तरह भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना के पात्र 17 हजार 839 हितग्राहियों को पहली किस्त 3 करोड़ 56 लाख 78 हजार रुपए और गोधन न्याय योजना के तहत 690 गोबर विक्रेता को 7.16 लाख रुपए उनके खाते में जमा कराई है।

बैंक के बाहर शाम 6 बजे तक डटे रहे किसान
नगर पंचायत सहसपुर लोहारा स्थित जिला सहकारी बैंक शाखा में 70 गांव के किसानों लेन-देन होता है। बुधवार को खाते से पैसा निकालने किसानों की भीड़ लगी थी। कई किसान 12 से 15 किमी दूर गांवों से आए थे। भीड़ के कारण बैंक के चैनल गेट को बंद कर दिया गया। अन्नदाताओं को बाहर ही रोक दिए। इस भीड़ में कई बुजुर्ग किसान भी थे, जो धूप में खड़े नजर आए। भीड़ के कारण सड़क पर ट्रैफिक जाम की स्थिति बन गई थी।

उड़िया खुर्द में बैंक शाखा खोलने की कर रहे मांग
सहसपुर लोहारा के सहकारी बैंक में करीब 70 गांव के किसान लेन- देन करने आते हैं। दूरस्थ वनांचल गांव रेंगाखार जंगल से भी किसान यही आते हैं। समस्या को देखते हुए उड़िया खुर्द में बैंक शाखा खोलने की मांग की जा रही है।

जिले में सहकारी केंद्रीय बैंक की 14 शाखाएं हैं। इन बैंक शाखाओं में 1.50 लाख से अधिक किसानों के खाते हैं। खातेदारों की संख्या ज्यादा व बैंक शाखाओं की संख्या कम है। जिले में 3 नई बैंक शाखा खोलने की अनुमति मिल गई है।

खबरें और भी हैं...