काला अध्याय:भाजपा ने कहा आपातकाल के लिए कांग्रेस जनता से माफी मांगे

कांकेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भाजपा जिलाध्यक्ष सतीश लाटिया, जिला महामंत्री बृजेश चौहान, दिलीप जायसवाल ने तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लोकतंत्र की हत्या करते हुए 25 जून 1975 को देश पर जबरन थोपे गए आपातकाल को काला अध्याय बताते हुए इसके लिए कांग्रेस पार्टी को जनता से माफी मांगनी की बात कही। उन्होंने कहा तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने इतिहास के पन्नों को भी काला करने का काम किया है।

आपातकाल में इंदिरा सरकार ने मनमानी करते हुए जनंसघ के बड़े नेताओं को जहां जेल में बंद कर दिया था, वहीं मीडिया पर लगाम लगाने मीडिया संस्थानों में ताला लगवा दिया। आपातकाल में जनता के बोलने की आजादी छीन ली गई थी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा इंदिरा गांधी के चुनाव को अवैध ठहराने के बाद इंदिरा गांधी द्वारा मनमानी, तानाशाही रवैया अपनाते हुए अपनी कुर्सी बचाने के लिए देश पर जबरदस्ती आपातकाल थोपा गया। आपातकाल में चुनाव स्थगित कर नागरिकों के अधिकारों का दमन किया गया। लोकनायक जयप्रकाश नारायण ने इसे भारतीय इतिहास की सर्वाधिक काली अवधि कहा।

आपातकाल की घोषणा के साथ ही आरएसएस के स्वंयसेवकों व तमाम गैर कांग्रेसी नेताओं की गिरफ्तारी शुरू हो गई। विपक्षी नेताओं के आवाज को दबाते हुए जेल में बंद कर प्रताड़ित किया जाने लगा। आपातकाल के खिलाफ सत्याग्रह करने वाले लाखों लोगों को जेल भेज दिया गया। जो कांग्रेसी आज अभिव्यक्ति की आजादी व लोकतंत्र की बात करते है, उन्हें आपातकाल को याद कर लेना चाहिए।

खबरें और भी हैं...