जन चौपाल:समय पर राशन और दिव्यांगों को प्रमाण पत्र नहीं मिला, 3 को नोटिस देने निर्देश

कांकेर15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आंगनबाड़ी पहुंचकर बच्चों का सामान्य ज्ञान जांचा। - Dainik Bhaskar
आंगनबाड़ी पहुंचकर बच्चों का सामान्य ज्ञान जांचा।

कलेक्टर चंदन कुमार और पुलिस अधीक्षक शलभ कुमार सिन्हा ने शनिवार को कांकेर ब्लॉक के पीढ़ापाल, कोदागांव और आतुरगांव में चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्या सुनीं। उन्होंने समस्याओं के निराकरण के लिए आवश्यक कार्रवाई करने ग्रामीणों को भरोसा दिलाया। चौपाल में वनमंडलाधिकारी कांकेर आलोक बाजपेयी और एसडीएम धनंजय नेताम सहित अन्य विभागों के अधिकारी कर्मचारी भी मौजूद थे।

कलेक्टर-एसपी ने सबसे पहले ग्राम पीढ़ापाल में चौपाल लगाई, यहां पर क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्य नरोत्तम पडोटी सहित ग्रामीणजन बड़ी संख्या में मौजूद थे। कलेक्टर चंदन कुमार ने ग्रामीणों से समस्या एवं शिकायतों की जानकारी ली। उन्होंने सामाजिक सुरक्षा पेंशन राशि का भुगतान, उचित मूल्य दुकान से राशन का वितरण, मनरेगा मजदूरी का भुगतान, फसल बीमा क्षतिपूर्ति राशि का भुगतान, पेयजल समस्या एवं जल जीवन मिशन के कार्य, मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान अंतर्गत कुपोषित बच्चों एवं गर्भवती व पोषक माताओं को पौष्टिक गर्म भोजन का वितरण, आंगनबाड़ी का संचालन आदि की जानकारी ली।

ग्रामीणों द्वारा उचित मूल्य दुकान से निर्धारित दिवस को खाद्यान्न का वितरण नहीं होने की जानकारी मिलने पर विक्रेता ऐश्वर्य सागर को कारण बताओ नोटिस जारी करने कहा गया। इसी प्रकार फसल बीमा एवं गोठान के संबंध में जानकारी लेने पर संतोषजनक जवाब नहीं देने पर ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी अमित चौधरी को कारण बताओ नोटिस जारी करने के कहा गया।

कलेक्टर ने ग्रामीण सचिवालय में प्राप्त आवेदनों की जानकारी ली। इस पर विशेष ग्रामीण सचिवालय में 25 आवेदन प्राप्त होने की जानकारी दी गई। इनमें ज्यादातर आवेदन राशन कार्ड में नाम जोड़ने से संबंधित थे। ग्रामीणों द्वारा जल जीवन मिशन अंतर्गत पेयजल की सुगम आपूर्ति के लिए गांव के ऊपरी भाग में टंकी लगाने का सुझाव दिया। कलेक्टर ने इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने के लिए कार्यपालन अभियंता पीएचई को कहा।

चौपाल में दिव्यांग को ट्राइसिकल देने निर्देश

कलेक्टर-एसपी ने ग्राम आतुरगांव में भी चौपाल लगाई और ग्रामीणों की समस्या सुनी गई। कलेक्टर ने हितग्राहियों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन राशि जारी होने के संबंध में जानकारी प्रदान करने के लिए जिला प्रशासन द्वारा दिव्यांगजनों को जारी प्रमाण पत्र के संबंध में पूछताछ की। इस पर ग्राम पंचायत सचिव सुनील पदमाकर द्वारा प्रमाण पत्र का वितरण सभी दिव्यांगजनों को नहीं होने की जानकारी मिलने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी करने कहा।

दिव्यांगजन शरद मातलाम द्वारा भी पेंशन राशि नहीं मिलने की जानकारी दी गई। कलेक्टर द्वारा तत्काल उनका पासबुक एवं आधार कार्ड मंगाया गया, उनके खाते में राशि जमा हुई थी अत उनके बैंक खाता से राशि आहरित कर उन्हें तत्काल भुगतान किया गया। दिव्यांगजन विरेंद्र नेताम को भी एक सप्ताह के भीतर ट्राइसायकिल प्रदान करने के लिए समाज कल्याणा विभाग के उप संचालक को कहा गया।

आतुरगांव स्कूल का किया निरीक्षण

चौपाल के बाद कलेक्टर-एसपी ने आतुरगांव के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय आतुरगांव का निरीक्षण किया। उन्होंने स्कूल में वाटर एंड द्वारा विद्यार्थियों के लिए तैयार किए गए हैंड वॉश यूनिट, ड्रिंकिंग वाटर, शौचालय एवं शिक्षण कक्षों का निरीक्षण किया। स्कूल की दर्ज संख्या एवं संचालित संकाय के आधार पर विभाग को प्रस्तुत अतिरिक्त शिक्षण कक्ष एवं लाइब्रेरी के प्रस्ताव के संबंध में परीक्षण कर अति शीघ्र करवाने का आश्वासन दिया।

कलेक्टर ने आंगनबाड़ी भवन, प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला, उप स्वास्थ्य का भी निरीक्षण किया। इस दौरान प्राचार्य बीपी सिंह, वरिष्ठ व्याख्याता संजीत श्रीवास्तव, एबीईओ दीपक ठाकुर, संकुल समन्वयक विजय नाग, वाटर एंड के जिला संयोजक अजहर कुरैशी, ब्लॉक कोऑर्डिनेटर अरुण कुमार, तिलक यादव, सरपंच शिशुपाल शोरी, जनपद प्रतिनिधि ईश्वर कावड़े उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...